निकोसिया, प्रेट्र। साइप्रस की यात्रा पर गए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वहां के लोगों से भारत में निवेश बढ़ाने का आह्वान किया है। उन्‍होंने कहा कि वे डिजिटलाइजेशन, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट, बुनियादी सुविधाओं के विकास और पर्यटन संबंधी परियोजनाओं में निवेश कर सकते हैं।
उल्लेखनीय है कि साइप्रस भारत में सर्वाधिक निवेश करने वाले देशों में आठवें नंबर पर है। दोनों देशों के बीच 8.2 अरब डॉलर (58 हजार करोड़ रुपये) का सालाना कारोबार है।

साइप्रस की संसद को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, तेजी से बढ़ता भारत दुनिया भर के निवेशकों को अवसर का लाभ उठाने के लिए आमंत्रित कर रहा है। बड़े और फायदे वाली परियोजनाएं निवेशकों को मौका उपलब्ध करा रही हैं।
डिजिटल इंडिया मिशन, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के अतिरिक्त ऊर्जा क्षेत्र, राजमार्गो का निर्माण, बंदरगाह निर्माण और जहाजरानी ऐसे क्षेत्र हैं, जहां निवेश करके भारी लाभ कमाया जा सकता है।
भारत सरकार वीजा नियमों को सरल बनाकर पर्यटन को बढ़ावा देने की दिशा में आगे बढ़ रही है। इसलिए पर्यटन से जुड़ी परियोजनाओं से भी लाभ लिया जा सकता है। भारत इन सभी परियोजना में साइप्रस के साथ मिलकर कार्य करने के लिए तैयार है।
साइप्रस वहां विकास में हिस्सेदारी निभाने के लिए आ सकता है और साथ मिलकर फायदा उठा सकता है। भारत कारोबार करने के लिए खुला है, भारत साइप्रस के लोगों के लिए खुला है।
राष्ट्रपति ने कहा कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती बड़ी अर्थव्यवस्था है। साइप्रस उसका आजमाया हुआ सहयोगी है। इसलिए साइप्रस भारत के आधुनिकीकरण में सहयोग के लिए आगे आए, उसका स्वागत है।
राष्ट्रपति ने इस दौरान भारतीय दवाओं और स्वास्थ्य सुविधाओं की ओर भी साइप्रस के लोगों का ध्यान आकर्षित किया। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में भारत की सदस्यता के दावे के प्रति साइप्रस के समर्थन के लिए आभार जताया।

 

Posted By: Arun Kumar Singh