मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान की तरफ से लगातार तनाव बढ़ाने की कोशिश के बीच सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच लंबी टेलीफोन वार्ता हुई। बातचीत में द्विपक्षीय कारोबार, अफगानिस्तान व अन्य द्विपक्षीय संबंधों जैसे तमाम मसलों पर बात हुई, लेकिन जम्मू व कश्मीर का मुद्दा भी दोनो नेताओं के बीच काफी गंभीरता से उठा।

पीएम मोदी की तरफ से यह साफ कर दिया गया कि पाकिस्तान के पीएम इमरान खान की तरफ से बेवजह भड़काऊ बयानबाजी की जा रही है जो क्षेत्रीय शांति के लिए सही नहीं है। पीएम मोदी ने सीमा पार आतंक को खत्म करने को सबसे अहम बताते हिंसा व आतंक के खात्मे की जरुरत बताई।

दोनो नेताओं के बीच बेहद सौहार्दपूर्ण माहौल 
विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी सूचना के मुताबिक आधे घंटे तक दोनो नेताओं के बीच बेहद सौहार्दपूर्ण माहौल में बात हुई। जून, 2019 के अंत में ओसाका में हुई बातचीत के संदर्भ में पीएम ने यह इच्छा जताई कि भारतीय वाणिज्य मंत्री शीघ्र ही अमेरिका के अपने समकक्ष (व्यापार प्रतिनिधि) से मुलाकात करेंगे ताकि द्विपक्षीय कारोबार से जुड़े मुद्दों पर सहमति बन सके।

आतंक मुक्त माहौल बनाना जरुरी
इसके बाद क्षेत्रीय हालात पर बात हुई। पीएम ने जोर दे कर बताया कि दक्षिण एशिया में सीमा पार आतंक को समाप्त करने, हिंसा व आतंक मुक्त माहौल बनाना कितना जरुरी है। पीएम मोदी ने यह भी कहा कि उक्त रास्ता पर जो भी चलेगा उसके साथ भारत सहयोग करने को तैयार है और गरीबी, अशिक्षा व महामारी के खिलाफ रोकने में साथ चलेगा।

ट्रंप ने दी थी इमरान को नसीहत
बता दें कि पिछले हफ्ते शुक्रवार को राष्ट्रपति ट्रंप की पाक पीएम इमरान खान के साथ भी टेलीफोन वार्ता हुई थी। उसमें ट्रंप ने उन्हें स्पष्ट तौर पर सलाह दिया था कि भारत के साथ तनाव खत्म करने के लिए बातचीत का रास्ता अख्तियार किया जाए। यह भी साफ किया गया था कि कश्मीर के मुद्दे पर दोनो देशों को मिल कर ही समाधान निकालना होगा।

अफगानिस्तान पर भी बात
मोदी और ट्रंप के बीच अफगानिस्तान पर भी बात हुई। अफगानिस्तान अपनी आजादी की सौंवी वर्षगांठ मना रहा है। मोदी ने भारत की मंशा साफ कर दी कि वह हमेशा एक संयुक्त, सुरक्षित, लोकतांत्रिक व स्वतंत्र अफगानिस्तान का पक्षधर है।

गौरतलब है कि अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने के लिए अमेरिका व तालिबान के बीच बातचीत अंतिम चरण में है। अफगानिस्तान की स्थिति भारत की रणनीतिक के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण है इसलिए वह हर स्थिति पर नजर बनाये हुए है।

 

Posted By: Manish Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप