मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

लंदन, प्रेट्र। दो अरब डॉलर के पीएनबी घोटाले और मनी लांड्रिंग में आरोपित भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की ब्रिटेन की अदालत में गुरुवार को वीडियो लिंक के जरिए पेशी हुई। लंदन स्थित जेल में कैद मोदी की न्यायिक हिरासत 19 सितंबर तक के लिए बढ़ा दी गई है।

हालांकि नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के लिए पांच दिन की सुनवाई अगले साल मई से शुरू होने के आसार हैं। इस संक्षिप्त सुनवाई के दौरान 48 वर्षीय नीरव मोदी को वेस्टमिनिस्टर कोर्ट के जज टैन इकराम ने बताया कि भारत प्रत्यर्पण मामले में उनकी सुनवाई की तारीखें अगली सुनवाई पर यानी को आगामी 19 सितंबर को निर्धारित होंगी। इस दिन नीरव मोदी को फिर से अदालत में वीडियो लिंक के जरिए ही पेश किया जाएगा।

हालांकि पाकिस्तानी मूल के जज टैन (तनवीर) इकराम ने कहा कि मामले में आज कोई प्रगति नहीं हुई है। हालांकि उन्होंने कोर्ट क्लर्क को नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के लिए पांच दिन की सुनवाई की तारीखें 11 मई, 2020 से शुरू करने के लिए पुष्टि करने की हिदायतें दीं। ध्यान रहे के मामले के प्रबंधन को लेकर भी अगले साल फरवरी से सुनवाई होने की उम्मीद है।

नीरव मोदी को लंदन के दक्षिण-पश्चिम स्थित वांड्सवर्थ जेल में विगत मार्च से रखा गया है। उन्हें यहां प्रत्यर्पण की सुनवाई पूरी होने तक रखा जाना है। विगत जुलाई में वेस्टमिनिस्टर मेजिस्ट्रेट अदालत में सुनवाई के दौरान जज ने संकेत दिया था कि दोनों पक्षों की सहमति से पांच दिन की प्रत्यर्पण सुनवाई के लिए तिथि निर्धारित की जाएगी।

ब्रिटिश कानून के तहत नीरव मोदी को अदालत के समक्ष 28 दिन के अंतराल पर पेश किया जाना है। गिरफ्तारी के बाद नीरव मोदी ने कई बार जमानत लेने की कोशिश की लेकिन उसकी याचिका हर बार भगोड़ा बताकर खारिज कर दी गई। 

यह भी पढ़ें : PNB Fraud Case: कोर्ट ने 25 जुलाई तक बढ़ाई रिमांड तो Nirav Modi ने जताई अपनी इच्छा, जानिए

 

Posted By: Pooja Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप