गोरखपुर, जेएनएन। भारत-नेपाल सीमा पर एसएसबी की 66वीं बटालियन व नेपाल रुपंदेही जिले की सशस्त्र बल ने संयुक्त गश्त की। इस दौरान सयुंक्त गश्ती दल ने 522 से लेकर 522/6 तक पैदल गश्त किया। शनिवार की शाम चार बजे से निकली संयुक्त गश्ती दल ने नोमेंसलैंड पर मौजूद पिलरों का निरीक्षण भी किया। सरहद के पगडंडियों से आवागमन कर रहे लोगों के सामनों की जांच किया। एसएसबी खनुआ के एसआइ  अभिजीत आर्यन ने बताया कि सीमा पर तस्करी के मद्देनजर नेपाल के सशस्त्रदल के साथ गश्त की गई है। सयुंक्त टीम ने नेपाल की तरफ से हेड कांस्टेबल टीबी कुमार सहित दर्जनों जवान उपस्थित रहे।

नेपाली शराब के साथ चार महिलाएं हिरासत में

महराजगंज के नौतनवा थाना क्षेत्र के डंडा नदी पर नेपाली शराब के साथ चार महिलाओं को महिला पुलिस ने पकड़ लिया। इस दौरान उनके झोले की तलाशी लेने पर 208 शीशी नेपाली बरामद की गई। चारों महिला को हिरासत में लेकर थाना लाया गया है। नौतनवा थाना क्षेत्र में पुलिस टीम गश्त कर रही थी।  इसी दौरान सूचना पर महिला पुलिस की मदद से डंडा नदी के पास चार महिलाओं को रोका गया, जो नेपाल से नौतनवा नगर को आ रही थी। चारों महिलाओं के झोले की तलाशी लेने पर 208 शीशी नेपाली शराब बरामद की गई। पुलिस चारों महिलाओं को हिरासत में लेकर थाना उठा लाई। इंस्पेक्टर परमाशंकर यादव ने  बताया चारों महिलाओं को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

चोरी की बिजली से रौशन हो रहा कस्टम कार्यालय

भारत-नेपाल सीमा के महराजगंज जिले के ठूठीबारी स्थल सीमा शुल्क चौकी की स्थापना आठ वर्ष बाद भी कस्टम विभाग ने बिजली कनेक्शन नहीं लिया है। ठूठीबारी स्थित सीमा शुल्क चौकी (कस्टम) कार्यालय में विगत आठ वर्षों से चोरी का बिजली जलाई जा रही है। चर्चा है कि बिजली विभाग के कर्मियों की मिलीभगत से अब तक इस काम को अंजाम दिया जा रहा है। एसडीओ उपेन्द्र चौरसिया का कहना है कि इसकी जानकारी उन्हें नहीं हैं। करीब एक सप्ताह पहले कार्यालय में कनेक्शन के लिए आवेदन मिला है, पूरा मामला जांच के बाद ही सामने आएगा।

भारत नेपाल का बड़ा भाई : भिक्षु मैत्री

कुशीनगर में आल नेपाल भिक्षु एसोसिएशन के अध्यक्ष भिक्षु मैत्री ने कहा कि पूर्व से ही भारत और नेपाल के संबंध मैत्री पूर्ण रहे हैं। यह कभी समाप्त होने वाला नहीं हैं। भारत नेपाल का बड़ा भाई है। नेपाली जनता हमेशा से भारत से निकटता चाहती है। दोनों देशों की सांस्कृतिक व सामाजिक व्यवस्था में काफी समानता है। मैत्री औरंगाबाद में आयोजित विश्व बौद्ध सम्मेलन में भाग लेने जाते समय कुशीनगर में रुके थे। उन्होंने जागरण से बातचीत की। कहा कि भारत के साथ सीमा विवाद कूटनीतिक प्रयासों से आसानी से हल किया जा सकता है। नेपाली जनता का झुकाव चीन की ओर बढ़ा है, लेकिन भारत से हमारे रिश्ते कमजोर नहीं हुए हैं। नेपाल अपने पड़ोसियों से अच्छे संबंध बनाकर रहना चाहता है। नेपाल में बौद्ध धर्म के सभी शाखाओं के मानने वाले अनुयायी हैं। जबकि भारत में महायान और बज्रयान प्रेक्टिस करने वालों की संख्या कम ही है।

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस