नई दिल्ली, प्रेट्र। भारत और अमेरिका के बीच पहली टू प्लस टू वार्ता से पहले दोनों देशों के गृह मंत्रालय के अधिकारियों की बैठक हुई। इसमें अधिकारियों ने खुफिया सूचना साझा करने, आतंकवाद के वित्त पोषण और साइबर सुरक्षा में आतंकवाद रोधी सहयोग समेत छह क्षेत्रों में एक योजना के मसौदे पर काम किया है। इससे जुड़े एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि हाल में भारत-अमेरिका गृह सुरक्षा वार्ता आयोजित हुई है। इस दौरान वरिष्ठ अधिकारियों ने छह क्षेत्रों में गतिविधियों से संबंधित कार्य योजना के मसौदे पर चर्चा की।

भारत-अमेरिका गृह सुरक्षा वार्ता के तहत आने वाले छह क्षेत्रों में अवैध वित्त पोषण, नकदी की अवैध तस्करी, वित्तीय जालसाजी, साइबर सूचना, मेगासिटी पुलिसिंग और संघीय राज्य एवं स्थानीय एजेंसियों के बीच सूचना को साझा करना, वैश्विक आपूर्ति शृंखला, परिवहन, बंदरगाह, सीमा और समुद्री सुरक्षा, क्षमता निर्माण और तकनीकी आधुनिकीकरण शामिल हैं। अधिकारी ने बताया कि बैठक के दौरान आतंकवाद रोधी पहलों और खुफिया सूचनाओं को साझा करने से संबंधित मामलों में सहयोग पर जोर दिया गया।

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि दोनों पक्षों ने भारत और अमेरिका के बीच सुरक्षा सहयोग बढ़ाने के लिए बातचीत कायम रखने पर भी सहमति जताई। भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व गृह मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव रजनी शेखरी सिब्बल जबकि अमेरिका की ओर से गृह सुरक्षा विभाग में उपमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया।

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपिओ और रक्षा मंत्री जिम मैटिस अहम कूटनीतिक और सुरक्षा मुद्दों पर भारत के साथ भागीदारी बढ़ाने पर चर्चा करने के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज तथा रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण से मुलाकात करेंगे।

Posted By: Ravindra Pratap Sing