वॉशिंगटन, एजेंसी। अमेरिकी प्रधानमंत्री डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर मुद्दे को लेकर मध्यस्ता की बात कही थी। ट्रंप के इस बयान पर पूर्व राजनायिकों ने कहा कि उनके ऐसा करने से अमेरिका और भारक के संबंधों को नुकसान होगा। 

भारत ने पहले ही ट्रंप के दावे को खारिज कर दिया है, जो उन्होंने पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान से मुलाकात के दौरान कहा था कि भारत की लगातार स्थिति यह रही है कि पाकिस्तान के साथ सभी बकाया मुद्दों पर द्विपक्षीय रूप से चर्चा करके ही खत्म किए जाएं। भारत में अमेरिका के पूर्व राजदूत रिचर्ड वर्मा ने मीडिया से कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप ने आज बहुत नुकसान किया है। कश्मीर और अफगानिस्तान पर कई गई उनकी टिप्पणी के बारे में किसी ने नहीं सोचा था।

अमेरिका में पाकिस्तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी के अनुसार, राष्ट्रपति जल्द ही दक्षिण एशियाई मुद्दों की जटिलता सीखेंगे। उन्होंने कहा, 'राष्ट्रपति ट्रम्प अफगानिस्तान पर एक समझौते के साथ पाकिस्तान की मदद चाहते हैं और पाकिस्तान जो चाहता है, उसके साथ मदद की संभावना को खतरे में डाल दिया है।' उन्होंने कहा कि उन्होंने इमरान खान की प्रशंसा की जैसे उन्होंने उत्तर कोरिया के किम जोंग-उन की प्रशंसा की। यह सौदा पाने की कोशिश में उनकी मानक प्रक्रिया है।

ट्रंप ने कहा यह (लंबे समय से) चल रहा है, "उन्होंने कहा, खान ने जवाब देते हुए कहा कि 70 साल से। मुझे लगता है कि वे (भारतीय) इसे हल होते हुए देखना चाहेंगे। मुझे लगता है कि आप भी इसे हल होते हुए देखना चाहेंगे। और अगर मैं मदद कर सकता हूं, तो मैं एक मध्यस्थ बनना पसंद करूंगा। यह होना चाहिए .... हमारे पास दो बेहद स्मार्ट नेतृत्व के साथ बहुत स्मार्ट देश हैं, और वे इस तरह की समस्या का समाधान नहीं कर सकते। लेकिन अगर आप चाहते हैं कि मैं मध्यस्थत या मध्यस्थता करूं, तो मैं ऐसा करने के लिए तैयार हूं। ट्रंप ने दावा किया कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मुझसे यहीं कहा था।  तो हम उससे बात कर सकते हैं। मैं उनसे बात करुंगा और देखेंगे की हम इस मुद्दे पर क्या कर सकते है। 

Posted By: Ayushi Tyagi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप