यांगून (एएनआई)। भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज वर्तमान में म्यांमार के दौरे पर हैं। विदेश मंत्री स्वराज ने इस दौरान म्यांमार की स्टेट काउंसलर आंग सान सू की के मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान भारत और म्यांमार के बीच सात तरह के समझौतों पर हस्ताक्षर किये गए हैं। यहां वे म्यांमार सेना बल के कमांडर-इन-चीफ और सीनियर जनरल मिन आंग ह्यांग से भी मुलाकात की।

आपको बता दें कि वर्तमान में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी दो दिवस के नेपाल दौरे पर हैं। उनके ठीक पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का भी म्यांमार दौरा शुरु हुआ। विदेश मंत्रालय ने सुषमा स्वराज के इस दौरे को लेकर कहा था कि इस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मोदी की सितंबर, 2017 में हुई यात्रा के दौरान किए गए फैसलों की समीक्षा की जाएगी।

दोनों देशों के बीच 7 समझौतों पर हस्ताक्षर भी हुए। माना जा रहा है कि ये समझौता रखाइन प्रांत में आर्थिक व समाजिक विकास से संबंधित हैं। रखाइन प्रांत में ही सबसे ज्यादा रोहिंग्याई रहते हैं जिनकी आबादी का एक बड़ा हिस्सा अभी बांग्लादेश व भारत में निर्वासित जीवन जी रहा है।

इनका कहना है कि म्यांमार सेना की ज्यादतियों की वजह से वे अपना घर छोड़कर दूसरे देशों में रह रहे हैं। भारत सरकार रखाइन प्रांत में आर्थिक व समाजिक विकास के लिए फंड मुहैया कराने पर विचार कर रही है जिससे रोहिग्या शरणार्थियों की समस्या का स्थायी समाधान निकाला जा सके।

Posted By: Srishti Verma