वॉशिंगटन, आइएएनएस। अमेरिकी विदेश मंत्रालय में इंस्पेक्टर जनरल के पद पर तैनात स्टीव लिनिक को बर्खास्त किए जाने की डेमोक्रेट्स जांच करेंगे। अमेरिकी सभा में डेमोक्रेट नेतृत्व प्रतिनिधियों की एक कमिटी ने इस मामले में जांच की घोषणा की है। बता दें कि विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने शुक्रवार को स्टीव लिनिक को उनके पद से बर्खास्त कर दिया है। इसे लेकर पोम्पिओ की तरफ से कोई कारण भी नहीं दिया गया था। हालांकि अनुमान लगाया जा रहा है कि लिनिक द्वारा मंत्रालय में ट्रंप प्रशासन द्वारा नियुक्त किए गए कर्मचारियों को लेकर कई रिपोर्ट्स जारी की  गई थी, जिसके बाद उन्हें पद से हटा दिया गया।

न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक विदेशी मामलों की समिति ने अपने बयान में कहा कि कमिटी के प्रमुख  इलिओट एंजेल द्वारा जांच शनिवार को शुरू कर दी गई है। इसमें इलिओट के अलावा सीनेटर बॉब मेनेंडेज भी शामिल हैं। दोनों डेमोक्रेटिक सांसदों ने प्रशासनिक अधिकारियों से बर्खास्तगी से जुड़े सभी दस्तावेज 22 मई तक देने का आग्रह किया है।

बयान में कहा गया है, "एंजेल और मेनेंडेज ने प्रशासन से आग्रह किया है कि लिनिक के निष्कासन और इंस्पेक्टर जनरल के पद पर नियुक्त होने वाले स्टीफन डे. अकार्ड से जुड़े दस्तावेज उन्हें उपलब्ध कराए जाएं। इसके अलावा विदेश मंत्रालय से जुड़ी उन सभी जांचों के रिकॉर्ड भी मांगे गए हैं जो इंस्पेक्टर जनरल लिनिक द्वारा की जा रही थी और उनके निष्कासन तक पूरी नहीं हो सकी।"

बता दें कि शुक्रवार को स्टीव लिनिक को उनके पद से हटा दिया गया था। मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया था कि विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने बिना कोई कारण बताए स्टीव लिनिक को इंस्पेक्टर जनरल के ऑफिस से बर्खास्त कर दिया था। लिनिक की नियुक्ति 2013 में राष्ट्रपति बराक ओबामा के प्रशासन में हुई थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी हाउस की स्पीकर नेंसी पेलोसी को एक खत लिखकर कहा है कि अब मुझमें स्टीव लिनिक को लेकर पूरा विश्वास नहीं रह गया था। ट्रंप का कहना है कि उन्होंने सीनेट को एक ऐसे योग्य उम्मीदवार का नाम भेजने का वादा किया था जिस पर उन्हें पूरा विश्वास हो।

वहीं एंजेल ने पहले एक बयान में कहा था कि स्टीव विदेश मंत्री पोम्पिओ को लेकर एक जांच कर रहे थे। एंजेल का कहना है कि स्टीव को इस तरह पद से हटाया जाना एक ठीक नहीं है। वहीं न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक लिनिक, पोम्पिओ पर एक जांच कर रहे थे जिसके मुताबाकि विदेश मंत्री द्वारा मंत्रालय में नियुक्त एक राजनीतिक व्यक्ति का अपने और अपनी पत्नी के निजी कामों के लिए इस्तेमाल किया जा रहा था।

Posted By: Neel Rajput

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस