mahindra
  • Book Ad
  • Epaper
  • Hindi News

Jagran Policies & Standards

मिशन स्टेटमेंट

हमारा मिशन तथ्यपरक और विश्वसनीय कंटेंट उपलब्ध कराकर नए भारत को और मजबूत बनाना है। हम उपयुक्त ज्ञान, जानकारी और वीडियो के जरिए बेहतर स्वास्थ्य, शिक्षा और तरक्की का मार्ग प्रशस्त करना चाहते हैं, ताकि हमारा समाज समावेशी और प्रगतिशील बने।

संपादक का संदेश

जागरण न्यू मीडिया (जेएनएम), देश के प्रमुख मीडिया और कम्युनिकेशन संस्थान जागरण प्रकाशन लिमिटेड (जेपीएल) की डिजिटल इकाई है। जेपीएल का दखल प्रिंट, ओओएच, एक्टिवेशंस, रेडियो और डिजिटल जैसे कई क्षेत्रों में है। जेपीएल शेयर बाजार में लिस्टेड कंपनी है और दुनिया में सबसे अधिक पढ़े जाने वाले अखबार की प्रकाशक कंपनी है। भारत का सबसे बड़ा एफएम रेडियो नेटवर्क- रेडियो सिटी भी जेपीएल का ही है।

जेएनएम के पत्रकार ऑनलाइन न्यूज लिखते और प्रकाशित करते हैं। उनका मकसद पाठकों को उपयुक्त जानकारी देकर उन्हें शिक्षित करना भी है, ताकि जीवन से जुड़े उचित निर्णय लेने में वे समर्थ बनें। हमारे पोर्टफोलियो में 9 डिजिटल प्लेटफॉर्म हैं, जो न्यूज, एजुकेशन, लाइफस्टाइल, मनोरंजन, स्वास्थ्य और युवाओं को समर्पित हैं।

हमारा संपादकीय मिशन तथ्यपरक और विश्वसनीय कंटेंट देने की प्रतिबद्धता से प्रेरित है, ताकि नए भारत के निर्माण में हम मददगार बनें। इस मकसद को हासिल करने के लिए हम लगातार मौलिक, प्रामाणिक और विश्वसनीय कंटेंट प्रकाशित करते हैं।

हमारी टीम फैक्ट चेकिंग और न्यूज की जांच-पड़ताल के मामले में गूगल न्यूज इनिशिएटिव के तहत प्रशिक्षित है। हमारी टीम हर दिन बनने वाली न्यूज में गूगल ट्रेनिंग से जुड़ी चीजों का ख्याल रखती है। यह टीम प्वाइंटर इंस्टीट्यूट के इंटरनेशल फैक्ट चेकिंग नेटवर्क (IFCN) से सर्टिफाइड है और इसने विश्वास न्यूज नाम की भारत की पहली फैक्ट चेकिंग वेबसाइट लॉन्च की है।

जेएनएम अब द ट्रस्ट प्रोजेक्ट के साथ सहयोग करने जा रही है। इससे तथ्यपरक और विश्वसनीय कंटेंट लिखने और प्रकाशित करने की हमारी प्रतिबद्धता को और मजबूती मिलेगी।

हमारा काम

जेएनएम मल्टीमीडिया ऑनलाइन यूजर्स को कंटेंट प्रोवाइड कराता है, जिसके तहत 7000 से अधिक स्टोरी और 50 से अधिक वीडियो हर दिन बनाए जाते हैं। इनमें राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय न्यूज, हाइपर लोकल क्रियाकलापों का विस्तृत कवरेज, बिजनेस, ऑटो, टेक्नोलॉजी, स्पोर्ट्स, एंटरटेनमेंट-मूवी रिव्यू, स्कूल, कॉलेज, करियर, सरकारी नौकरी, सामान्य ज्ञान, परीक्षाओं की तैयारी से जुड़ीं जानकारियां, स्वास्थ्य, आयुर्वेद, फूड, स्टाइल, वेलनेस, महिलाओं से जुड़े मामले और ज्योतिष शास्त्र सभी कुछ शामिल हैं।

जागरण न्यू मीडिया का फोकस ऐसा प्रासंगिक और तथ्यात्मक कंटेंट तैयार करना है, जो पाठकों को प्रेरणा दे। ये यूजर्स को शिक्षित करने के साथ-साथ मनोरंजन प्रदान करते हुए समस्याओं के समाधान में मदद भी करता है। जागरण न्यू मीडिया डेटा आधारित पत्रकारिता के जरिए पाठकों को प्रासंगिक और तथ्यपरक कंटेंट उपलब्ध कराता है। जेएऩएम के पत्रकार उपयुक्त तौर-तरीके (इथिक्स) और प्रॉसेस मैनुअल का पालन करते हैं। इसके तहत न्यूज के संग्रह और प्रकाशन के लिए पहले से तय प्रक्रियाओं और फॉर्मेट का पालन किया जाता है।

वर्तमान में जागरण न्यू मीडिया के यूजर्स की संख्या 72 मिलियन से अधिक (Comscore MMX Multi-Platform; August 2019) और वीडियो व्यूज 55.5 मिलियन है।

हमारे पत्रकार इस तरह करते हैं काम

एथिक्स पॉलिसी (आचार-विचार संबंधी नीतियां)

ए. जिम्मेदार पत्रकारिता जागरण न्यू मीडिया के पत्रकारों के लिए उच्च संपादकीय मानकों का पालन करना आवश्यक है। जागरण न्यू मीडिया का मानना है कि गुणवत्तापूर्ण पत्रकारिता का लक्ष्य रिपोर्टरों, संपादकों और प्रोड्यूसरों के आपसी सहयोग से हासिल किया जा सकता है। पाठकों को त्रुटिहीन और उच्च गुणवत्तापूर्ण रिपोर्ट उपलब्ध कराना उनकी जिम्मेदारी है। एक सफल संपादक अपने रिपोर्टरों से किसी रिपोर्ट के हर पक्ष के बारे में बात करता है, ताकि रिपोर्टर किसी घटना के सभी पक्षों को ध्यान में रखते हुए उसका कवरेज करे।

जागरण न्यू मीडिया के सभी केंद्रों के रिपोर्टर, उपसंपादक, कंटेंट लिखने वाले और डेस्क शिफ्ट इंचार्ज किसी भी स्टोरी या रिपोर्ट के प्रकाशन से पहले उसकी उचित तरीके से जांच-पड़ताल करते हैं। उचित पड़ताल के बाद ही उस कंटेंट को वेबसाइट पर डाला जाता है।

बी. गैर-पक्षपातपूर्ण रवैया हमारी संपादकीय नीति के तहत मानकों का बेहद सख्ती से पालन किया जाता है। इसके तहत पत्रकारों के लिए आचार संहिता और दिशानिर्देश तय किए गए हैं। जेएनएम अपनी ‘नो इन्फ्लूएंसर पॉलिसी’ का कड़ाई से पालन करता है। इसके तहत सुनिश्चित किया जाता है कि कोई भी स्टोरी किसी बाहरी दबाव या पक्षपात से प्रभावित न हो। हमारे यहां काम करने वाला कोई भी व्यक्ति किसी भी तरह के पक्षपातपूर्ण क्रियाकलाप में लिप्त नहीं हो सकता है। किसी राजनीतिक उम्मीदवार या एडवोकेसी करने वाले संगठनों से वे प्रभावित नहीं होते हैं।

हमारा लक्ष्य किसी भी न्यूज का गैर-पक्षपातपूर्ण और स्वतंत्र कवरेज करना है। हमारे संपादक जरूरत पड़ने पर अपनी लीगल टीम से सलाह-मशविरा करते हैं। हमारे पत्रकार ईमानदार होने के साथ ही बिना किसी भय या पक्षपात के काम करते हैं। यहां काम करने वाले सभी लोगों से उम्मीद की जाती है कि वे कोई भी ऐसा काम नहीं करें, जिससे संगठन की छवि खराब हो। जेएनएम में काम कर रहे लोग जानते हैं कि ऊपर वर्णित नियमों का अगर उल्लंघन किया गया तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने के साथ ही उनका इंप्लॉयमेंट कॉन्ट्रैक्ट भी खत्म किया जा सकता है।

सी. संभव है कि हमारे कुछ पत्रकारों के संबंधी और मित्र राजनीति या कानूनी पेशे में हों, ऐसे मामलों में उन्हें स्थिति की गंभीरता से अवगत करा दिया जाता है। उनकी जिम्मेदारी है कि अपनी रिपोर्टिंग या न्यूज कवरेज में वे पूरी तरह से निष्पक्ष हों। एक पत्रकार को किसी राजनीतिक रैली या अन्य आयोजनों पर भी नजर रखनी चाहिए, भले ही वे आयोजन बीट में नहीं आते हों।

किसी राजनीतिक खबर के प्रकाशन के दौरान हमारे रिपोर्टर सही परिप्रेक्ष्य में नेताओं के वक्तव्य को रखते हैं। जागरण न्यू मीडिया के पत्रकार राजनीतिक घटनाओं के कवरेज के मामले में किसी भय या पक्षपात के बिना सभी पक्षों को समान जगह देते हैं। चुनाव के दौरान जेएनएम के पत्रकार ऐसा कंटेंट लिखते हैं, जो चुनाव आचार संहिता के अनुरूप हो।

राजनीति घटनाओं के कवरेज के मामले में जागरण न्यू मीडिया के पत्रकार किसी भी नेता या राजनीतिक दल के ऐसे बयानों का गलत हवाला नहीं देते हैं, जिससे घृणा या हिंसा भड़के। चुनाव कवरेज, चुनाव सर्वे या चुनाव-पूर्व सर्वे जैसे मामलों में चुनाव आयोग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का यहां उचित तरीके से पालन किया जाता है। जेएनएम राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मामलों से जुड़ी प्रमुख घटनाओं का विस्तृत विश्लेषण भी करता है, ताकि पाठकों को उन घटनाओं की पूरी जानकारी मिले। जेएनएम के कर्मचारियों को अपने काम के प्रति ईमानदार रहने के लिए जागरूक बनाया जाता है, ताकि उनपर पक्षपातपूर्ण रिपोर्टिंग या कवरेज का आरोप नहीं लगे। अगर किसी पत्रकार की निगाह में कोई घटना आती है तो वह उसके बारे में अपने संपादक को बताता है। इससे समय पर जरूरी रोकथाम के साथ ही सही कदम उठाना संभव होता है। इससे किसी भी अप्रिय घटना से बचने के साथ ही हितों के टकराव से भी बचा जा सकता है।

डी. जेएनएम के पत्रकार पाठकों के हितों के प्रति जिम्मेदार हैं। यही कारण है कि वे पत्रकारिता के उच्च मानकों का पालन करने में भी सक्षम हैं। जेएनएम के पत्रकारों का पूरा विश्वास उनके सूत्रों और कौशल में होता है। यहां काम करने वाले पत्रकार विभिन्न स्रोतों से जानकारी एकत्रित करके स्वतंत्र रूप से उसकी जांच-पड़ताल और पुष्टि करते हैं। वे अच्छी तरह से तय करते हैं कि उन्हें क्या कवर करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए। जेएनएम के पत्रकारों को रिपोर्टिंग के दौरान अपनी जिम्मेदारियों के प्रति लगातार आगाह किया जाता है। उन्हें खुले दिमाग से आलोचना स्वीकार करने और सामान्य लोगों की बातों को सुनने के लिए भी प्रोत्साहित किया जाता है, ताकि उनकी रिपोर्टिंग में जमीन की सच्चाई हो। जेएनएम के पत्रकार रिपोर्टिंग के दौरान सभी राजनीतिक दलों के विचारों को जगह देते हैं और किसी भी मामले की रिपोर्टिंग में कभी पार्टी बनने की कोशिश नहीं करते।

ई. पारदर्शिता जेएनएम का मानना है कि पत्रकारिता महज पेशा नहीं, बल्कि पैशन भी है और यह पैशन आपको दुनिया की सही तस्वीर पेश करने के लिए प्रेरित करता है। जेएनएम की नीतियां कर्मचारियों को सवाल पूछने के लिए प्रेरित करती हैं। इससे जेएनएम में काम करने वालों के विचारों और क्रियाकलापों में एकरूपता बनी रहती है। जेएनएम विचार-विमर्श और वाद-विवाद को प्रोत्साहित करता है, ताकि उनके काम में और निखार आ सके।

एफ. अभिव्यक्ति की आजादी जेएनएम के पत्रकारों और प्रबंधकीय कर्मचारियों को बेबाक तरीके से अपने विचार रखने की आजादी दी जाती है। रिपोर्टिंग के दौरान वे किसी न्यूज पर भी अपने व्यूज रख सकते हैं। इसके लिए एक मानक तय किया गया है और उसका पालन सुनिश्चित किया जाता है। यही कारण है कि हमारे पत्रकारों द्वारा लिए गए लोगों के वक्तव्य हमेशा सही होते हैं। अगर किसी कोट या वक्तव्य को छोटा करने की जरूरत आती है तो हमारे कर्मचारी इस बात को सुनिश्चित करते हैं कि उस वक्तव्य का अर्थ नहीं बदले।

जी. जांच-पड़ताल और फैक्ट-चेकिंग जेएनएम फर्जी खबरों को बेहद गंभीरता से लेते हुए उसके खिलाफ जिम्मेदार स्टैंड लेता है। इसे देखते हुए ही संगठन ने भारत की पहली फैक्ट चेकिंग वेबसाइट- विश्वास न्यूज लॉन्च की है, जो प्वाइंटर इंस्टीट्यूट के इंटरनेशल फैक्ट चेकिंग नेटवर्क (IFCN) से सर्टिफाइड है। विश्वास न्यूज हिंदी ही नहीं, पांच भाषाओं में फैक्ट चेकिंग का काम कर रही है। इसने फैक्ट-चेक वीडियो प्रोड्यूस करना भी शुरू किया है।

ग़लत सूचनाओं से लड़ाई में सबसे आगे रहकर जेएनएम इस मुद्दे पर जागरूकता फैलाकर सामाजिक ज़िम्मेदारी का निर्वहन कर रहा है। इसके लिए जेएनएम IFCN के साथ मिलकर काम कर रहा है, जिसके तहत देशभर में वर्कशॉप और सेमिनारों का आयोजन करके लोगों और संस्थानों के लिए जागरूकता अभियान चलाए जाते हैं, ताकि फेक न्यूज़ से वो लड़ने के लिए ख़ुद को तैयार कर सकें।

जागरण न्यू मीडिया अपने समाचार लेखकों को समाचार लिखते वक़्त निम्नलिखित बातों का ध्यान रखने के लिए प्रेरित करता है-

  • सूचना के लिए सूत्रों की पुष्टि करने के साथ आभार और सौजन्य देना।
  • इस बात का ध्यान रखना कि सूत्र की विश्वसनीयता पक्की करने के लिए आपके पास समुचित जानकारी है।
  • दावों को परखते समय आलोचनात्मक दृष्टिकोण रखना।
  • कभी अंदाजा या अनुमान नहीं लगाएं।

जेएनएम को प्रकाशित सामग्रियों के लिए समाचार लेखकों की सत्यनिष्ठा और सूचना की सत्यता पर पूरा भरोसा है। इसके बावजूद अगर कोई चूक होती है तो जेएनएम ग़लती मानने के महत्व को समझते हुए तुरंत सही सूचना भी प्रदान करता है। इसी क्रम में, जेएनएम अपने पाठकों, सहयोगियों और उनके सूत्रों को अपने कंटेंट पर प्रतिक्रिया देने के लिए प्रेरित करता है।

सुधार नीति (करेक्शन पॉलिसी)

जेएनएम कमेंट, मेल और फोन कॉल के रूप में आने वाले सुझावों और सुधारों का स्वागत करता है। अगर कंटेंट की सत्यता को लेकर जेएनएम को किसी तरह की शिकायत मिलती है तो उसे तुरंत स्थगित या रोककर तथ्यों की जांच की जाती है। एक बार जब तथ्यों की जांच हो जाती है, तब जेएनएम उचित क़दम उठाता है और उस प्रतिक्रिया पर जवाब देता है।

गलती की गंभीरता और सत्यता के अनुसार, जेएनएम प्रकाशित सूचना को हटा देता है या उसे संपादित करता है। अगर प्रकाशित सूचना गलती की श्रेणी में नहीं आती है तो पाठक को सूचित किया जाता है कि जेएनएम डेस्क कैसे अपने निर्णय पर पहुंची है।

सुधार नीति के अनुसार, जेएनएम ने ग़लत सूचना (मिस इन्फॉर्मेशन/फेक इन्फॉर्मेशन) के लिए अपनी लड़ाई को मजबूत करते हुए तथ्यों की जांच के लिए एक टीम का गठन किया है, जो नियमित रूप से हमारी वेबसाइट पर जाने वाले कंटेंट पर नज़र रखती है। जागरण न्यू मीडिया की तथ्यों की जांच करने वानी यूनिट- विश्वास न्यूज़- सक्रियता के साथ तथ्यों की पड़ताल करती है। विश्वास न्यूज़ इंटरनेशनल फैक्ट चेकिंग नेटवर्क (IFCN) द्वारा सत्यापित है। किसी अपील या फीडबैक की स्थिति में, जागरण न्यू मीडिया उपलब्ध करवाए गए विवरण का संज्ञान लेते हुए अपनी गाइडलाइंस और एसओपी के अनुसार, इसमें सुधार करता है। वह टीम के सदस्यों द्वारा बनायी गयी ऐसी स्टोरीज़ का रिकॉर्ड रखता है, जिनमें सुधार की ज़रूरत है।

कवरेज संबंधी प्राथमिकता

जागरण न्यू मीडिया का उद्देश्य, हिंदी न्यूज़ सेगमेंट को नया आकार देना है, ताकि हिंदी हार्टलैंड (हिंदीभाषी क्षेत्रों) के पाठकों का अनुभव और यूज़र इंगेजमेंट बेहतर हो सके। थिंकिंग मैन सेगमेंट (गंभीर पाठकों) के लिए हमारा फोकस राजनीति, राज्य, आम आदमी की समस्याएं, अंतरराष्ट्रीय, बिज़नेस और खेल पर है। विद्यार्थियों और युवाओं के लिए, हमारा ध्यान शिक्षा और करियर से जुड़ी ख़बरों और सूचनाओं के साथ व्यक्तित्व विकास और लाइफ स्किल्स से संबंधित स्पेशल फीचर देने पर भी है। महिलाओं के सेगमेंट के लिए हमारा ध्यान करियर, फूड व रेसिपी, फैशन, हेल्थ, फिटनेस, ट्रैवल-टूरिज़्म, बॉलीवुड और टीवी पर है। टैब्लॉयड पसंद करने वालों के लिए जागरण न्यू मीडिया का फोकस स्टेट्स एंड सिटीज़ सेगमेंट में कंटेंट प्रोड्यूस करने पर है।

जागरण वेबसाइट्स देश के युवाओं के लिए रियल-टाइम न्यूज़ कवरेज, विश्लेषण, फीचर आधारित स्टोरीज़, नॉलेज बेस्ड स्टोरीज़ प्रोड्यूस करती हैं। इसके साथ पाठकों की विचार करने की क्षमता के विकास के लिए विशेषज्ञों द्वारा ‘हाऊ-टू कंटेंट’ को समसामयिक और आसान फॉर्मेट में तैयार किया जाता है।

डायवर्स वॉइसेज स्टेटमेंट

जागरण न्यूज मीडिया सटीक, निष्पक्ष और संतुलित कवरेज के लिए प्रतिबद्ध है। उसका मानता है कि संतुलित समाचार के लिए सोर्सिंग (स्रोत) और लोगों की भर्ती में विविधता और समावेशी होना महत्वपूर्ण है। संपादकीय दृष्टिकोण से जेएनएम मानता है कि अपने कवरेज में समुदाय की विभिन्न आवाजों को शामिल करना पाठकों के लिए उपयुक्त है। इससे हमारी पत्रकारिता अधिक संतुलित बनती है। हमारा संपादकीय आदर्श वाक्य 'नए भारत को सशक्त बनाना' है।

कर्मचारियों और नीतियों में विविधता

जाति, पंथ, मूल, धर्म, लिंग, आयु, यौन अभिविन्यास, वैवाहिक स्थिति या विकलांगता आदि से निरपेक्ष होकर भूमिका के अनुरूप सबसे योग्य उम्मीदवार की भर्ती कर जेएनएम अपने समूह की वेबसाइटों के कंटेंट की गुणवत्ता, लाभप्रदता और दक्षता को बेहतर बनाने के लिए प्रतिबद्ध है।

जेएनएम अनुभव, पूर्व प्रदर्शन, योग्यता और क्षमता जैसे गुणों के आधार पर भर्ती करता है। जेएनएम की भर्ती का फैसला लिंग, यौन अभिविन्यास, उम्र, धर्म, विकलांगता, वैवाहिक स्थिति, गर्भावस्था या दूसरी निजी बातों को आधार मानकर नहीं होता है।

जेएनएम समान अवसर देने वाला नियोक्ता है और हमें गर्व है कि ‘ग्रेट प्लेस टू वर्क’ के रूप में हमारी प्रामाणिकता नि:संदेह है। हम अपने सभी कर्मचारियों को समान अवसर देते हैं। कार्यस्थल पर संपादकीय टीम समेत सभी कार्यक्षेत्रों में महिलाओं का स्वस्थ प्रतिनिधित्व है। शुरुआती, मध्य और वरिष्ठ से साथ ही कार्यकारी नेतृत्व स्तर पर भी कई सारी महिलाएं हैं। इनके पास रणनीति तैयार करने से लेकर पीएंडएल पोर्टफोलिया जैसी महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां हैं।

- यूजर ही हमारे नियोक्ता हैं जागरण न्यू मीडिया में पत्रकारों की टीम हमेशा यह बात ध्यान में रखती है कि उनके पाठक/यूजर ही उनके नियोक्ता हैं। जेएनएम की पत्रकारों की टीम जरूरी सूचना देने के लक्ष्य के साथ हर ऐसी न्यूज तैयार करती है, ताकि पाठक सूचनात्मक फैसले ले सकें। जेएनएम के पत्रकार, सार्वजनिक और निजी तौर पर शब्द और भाव से पाठकों के लिए निष्पक्ष बने रहते हैं।

- संस्थान से बाहर काम करना पत्रकारों और कर्मचारियों से उम्मीद की जाती है कि जब वे इस संस्थान के कर्मचारी हों तो, वे किसी अन्य संस्थान जो इस कंपनी का प्रतिस्पर्धी हो, उनके साथ काम नहीं करेंगे। जेएनएम के कर्मचारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे उन खबरों को, जो हमारे संस्थान द्वारा प्रकाशित नहीं हुई हैं, दूसरे संस्थान को नहीं देंगे। जेएनएम के सभी स्टाफ से उम्मीद की जाती है कि वे संस्था के हितों और प्रतिष्ठा की रक्षा करेंगे। अपने संपादकों को सूचित करने और उचित निर्णय लेने के बाद जेएनएम के पत्रकार डिबेट पैनल में हिस्सा लेने, अपने स्वतंत्र विचार रखने, यूनिवर्सिटी में लेक्चर देने और ऐसे ही अन्य प्रयासों में भाग के लिए स्वतंत्र हैं, जो उन्हें व्यापक बनाते हैं।

- जनसंपर्क सामान्य रूप से जेएनएम जनसंपर्क के काम की इजाजत नहीं देता है, चाहे ये उसके लिए पैसे मिलते हों या फिर नहीं मिलते हों। कर्मचारियों को यह समझने की जरूरत है और यह हमेशा ध्यान में रखना चाहिए कि कंपनी के हित और उसका काम प्रभावित नहीं हो। यदि उन्हें ऐसा कोई निमंत्रण स्वीकार करना है, तो जेएनएम से मंजूरी के बाद ही वे ऐसा कर सकते हैं। अगर किसी संस्था के कार्यक्रम या समारोह में कंपनी की कार्य प्रणाली या पारदर्शिता पर सवाल उठते हैं तो पत्रकारों को निर्देश दिए गए हैं कि वे ऐसे समारोह में शामिल होने से बचें।

- सोशल मीडिया प्रयोग के नियम यह सुनिश्चित किया जाता है कि जागरण न्यू मीडिया (JNM) के कर्मचारी हमेशा पारदर्शी बने रहें। लोग सोशल मीडिया पर उनके काम को विस्तार से दिखते हैं। इसलिए उन्हें कुछ सावधानी बरतने के सुझाव दिए जाते हैं।

  • अपने असली नाम का इस्तेमाल करें, जब आप जेएनएम या उसके प्रतिस्पर्धियों के बारे में लिख रहे हों, यानि जो भूमिका आप निभा रहे हैं, उसके बारे में जिम्मेदार रहें। अगर किसी कर्मचारी की सोशल मीडिया पर पोस्ट डालने में कोई रुचि है, तो वे शुरुआत में इसकी जानकारी दे दें।
  • सोशल मीडिया पर जेएनएम को गलत ढंग से प्रस्तुत न करें। आपके द्वारा लिखे गए सभी वाक्य सही होने चाहिए। कभी गलत बयान न दें। आपके द्वारा लिखे गए सभी दावे/पोस्ट/बयान सत्यापित होने चाहिए।
  • कृपया सम्मानजनक और अर्थपूर्ण टिप्पणी ही पोस्ट करें। दूसरे शब्दों में ऐसे कमेंट पोस्ट न करें जो विषय से संबंधित न हों या आपत्तिनजक/स्पैम हों।
  • सोशल मीडिया पर हमेशा व्यवहारिक बुद्धि और शिष्टाचार का प्रयोग करें। कभी भी जेएनएम के आंतरिक और गोपनीय संदेश को सोशल मीडिया पर पोस्ट न करें। कृपया पुष्टि करें कि आपका पोस्ट जेएनएम की गोपनीयता और बाह्य व्यावसायिक वक्तव्य के कानूनी दिशा-निर्देशों का उल्लंघन तो नहीं कर रहा है।
  • कृपया जेएनएम की गैर-गोपनीय बातों और जिन विषयों में आपकी विशेषज्ञता है, उनके बारे में स्वतंत्रता से लिखें। अगर आपको लगता है कि आप दूसरे व्यक्ति के विचार से सहमत नहीं हैं, तो कृपया अपने विचार विनम्रता से रखें।
  • अगर आप प्रतिस्पर्द्धा के बारे में लिखना चाहते हैं तो विनम्रता और तथ्य के साथ कंटेंट प्रस्तुत करें। कृपया इस बारे में लिखने से पहले संगठन से जरूरी अनुमति ले लें।
  • उन कानूनी मामलों में टिप्पणी न करें, जो केस जेएनएम से जुड़े हों या उस केस के दूसरे पक्षों के विषय से संबंधित हों।
  • सोशल मीडिया पर अगर किसी संकटकालीन स्थिति या विचाराधीन कोर्ट केस के बारे में बहस चल रही है तो इसमें हिस्सा न लें। कोई गुमनाम टिप्पणी न करें, क्योंकि आपका आईपी और जेएनएम का आईपी एड्रेस पकड़ा जा सकता है।
  • अपनी और संस्था की सुरक्षा को लेकर हमेशा सतर्क रहें। जो कुछ भी आप लिख रहे हैं, उसे दुनिया भर के लोग पढ़ सकते हैं और उसका असर काफी लंबे समय तक देखा जा सकता है। कृपया इसे याद रखें और सावधान रहें। कृपया याद रखें कि गूगल और फेसबुक लंबे समय तक आपकी टिप्पणी को संग्रहित रखते हैं।
  • कृपया राजनीतिक और धार्मिक मामलों में टिप्पणी करते समय पक्ष लेने से हमेशा बचें। आप अपने विचार लिख सकते हैं, लेकिन यह पूरी तरह गैर-पक्षपातपूर्ण ढंग से न किसी के खिलाफ या न किसी के समर्थन में होना चाहिए।

- उपहार और पुरस्कार सार्वजनिक जीवन के दूसरे पेशेवरों की तरह पत्रकारों को अक्सर कार्यक्रमों में आमंत्रित किया जाता है। यहां उन्हें उपहार और पुरस्कार दिए जा सकते हैं। जेएनएम ने अपने पत्रकारों के जिम्मेदार आचरण के लिए निम्नलिखित दिशा-निर्देश निर्धारित किए हैं-

  • जेएनएम अपने पत्रकारों को ऐसे उपहार या अपने सूत्र या जिस कार्यक्रम को वह कवर कर रहे हैं, उससे यात्रा खर्च लेने की इजाजत नहीं देता है। एक संस्था के रूप में जेएनएम अपने पत्रकारों को अच्छा भुगतान करता है। जेएनएम अपने पत्रकारों से उम्मीद करता है कि वे ऐसे उपहार और अन्य लाभ सम्मानपूर्वक लौटा दें। इसके अलावा जेएनएम रिव्यू के लिए दी गई किसी सामग्री की बिक्री नहीं करता है।
  • जेएनएम की अग्रिम अनुमति से साथ व्यावसायिक सम्मेलनों और कार्यशालाओं के लिए यात्रा का किराया और आवास की सुविधा स्वीकृत की जा सकती है।
  • अगर जेएनएम के कर्मचारी को कोई अप्रत्याशित उपहार मिलता है तो उन्हें सम्मानपूर्वक उसे संबंधित संस्था या व्यक्ति को लौटा देना चाहिए।
  • हमारी रिपोर्टिंग में जनता के विश्वास को बनाए रखने के लिए जेएनएम अपने पत्रकारों को स्पष्ट निर्देश देता है कि ऐसी किसी स्थिति से बचें। इस बारे में जेएनएम की नीति स्पष्ट है।
  • अक्सर सांस्कृतिक कार्यक्रम को कवर करने के दौरान संबंधित व्यक्ति को कार्यक्रम की याद में स्मृति चिह्न दिया जाता है और उससे लंच/डिनर तक रुकने का अनुरोध किया जाता है। इस स्थिति में इनकार करना सही नहीं हो सकता है। इसलिए पत्रकारों से कहा जाता है कि वह उचित निर्णय लें।
  • सम्मेलन और कार्यक्रमों में भी ऐसी स्थिति बनती है, जब उसमें हिस्सा लेने वाले सभी लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था की जाती है। इस स्थिति में इसमें हिस्सा लेने में कोई नुकसान नहीं है।
  • संपादक से मंजूरी के बाद आप संबंधित पत्रकारीय अवॉर्ड या यात्रा का खर्च ले सकते हैं, लेकिन सिर्फ शैक्षणिक और गैर-लाभकारी संस्था से, जिसका कोई गुप्त एजेंडा न हो।
  • कृपया किसी राजनीतिक दल से कोई अवॉर्ड या उपहार लेते समय सर्तक रहें।

- फ्रीलांसर चयन प्रक्रिया जागरण न्यू मीडिया में सभी कर्मचारी (स्थायी या फ्रीलांसर) समाचार एकत्रित करते समय कानून का पालन करते हैं।

  • अनधिकृत प्रवेश, छिपकर सुनना, बिना अनुमति बातचीत की रिकॉर्डिंग करना, कंप्यूटर हैकिंग, घर में सेंध लगाकर घुसना या कागजात चुराना कानून की नजर में अपराध है।
  • समाचार संग्रहित करते समय अगर कोई संवाददाता किसी कानूनी विवाद में फंस जाए तो उसे तुरंत विधि विभाग से संपर्क करना चाहिए, ताकि समय से सहायता प्रदान की जा सके।
  • दूसरे के काम/कंटेंट या इसके किसी हिस्से का इस्तेमाल साहित्यिक चोरी से जुड़े कानून और नीति के लिहाज से गलत है।
  • यह मायने नहीं रखता कि सोर्स एक लेखक की प्रकाशित किताब है या एक वेबसाइट पर है।
  • ये किसी भी रूप में स्वीकार्य नहीं है कि किसी दूसरे के काम का श्रेय लिया जाए।
  • यह गूगल सर्च इंजन पर संस्था की स्थिति/रैंक प्रभावित करती है।
  • यह आवश्यक है कि सभी खबरों में स्रोत का उल्लेख किया जाए।

- निजी जीवन में सावधानियां जागरण न्यू मीडिया कर्मचारियों की निजी जीवन में हस्तक्षेप नहीं करता है। कर्मचारी जैसा चाहें वैसा जीवन जी सकते हैं।

  • पत्रकार होने के साथ ही वे समाज के भी हिस्स हैं। वे समाज के भविष्य को दिशा देते हैं।
  • दूसरे नागरिकों की तरह वे अपने मतदान के अधिकार का इस्तेमाल कर सकते हैं और किसी को इस पर आपत्ति नहीं होनी चाहिए।
  • याद रखें कोई आपको किसी व्यक्ति को वोट देने के लिए जबरदस्ती नहीं कर सकता है।
  • ऐसी किसी जन गतिविधि में शामिल होने से बचें जो किसी राजनीतिक दल के नेता को चुनती है या उसकी गतिविधि को बढ़ावा देती है। अगर ऐसी सार्वजनिक स्थिति हो जिसमें राजनीतिक विचार को व्यक्त करना जरूरी हो तो उन्हें अपने संपादक से संपर्क करना चाहिए, जिससे कोई आप पर पक्षपाती राजनीतिक मुहिम का आरोप न लगा सके।
  • एक पत्रकार के रूप में जनता आपसे आजाद और निष्पक्ष राय की उम्मीद करती है। खासकर, राजनीति का कवर करने वाले पत्रकारों को ऐसे काम से बचना चाहिए, जो पत्रकार के रूप में उनकी स्वतंत्रता और निष्पक्षता को संकट में डाल दे। सामान्यत: जेएनएम के पत्रकार किसी सरकारी बोर्ड और आयोग में शामिल नहीं हैं, क्योंकि जेएनएम नहीं चाहता कि कोई हमारी निष्पक्षता और आजादी पर उंगली उठाए।
  • जेएनएम के कर्मचारी किसी राजनीतिक याचिका/मुहिम में हस्ताक्षर नहीं करेगा। वे किसी उम्मीदवार को कोई पैसा चंदा नहीं देंगे। ये कुछ सामान्य उदाहरण हैं, जिनका आसानी से पालन किया जा सकता है।
  • जेएनएम सामुदायिक सलाहकार बोर्ड में सेवा दे सकता है, शैक्षणिक संस्थानों में ट्रस्टी के रूप में और धार्मिक संस्था बोर्ड और गैर-लाभकारी समूह में सेवा दे सकता है, जब तक वे किसी राजनीतिक गतिविधि में शामिल नहीं होते या किसी खास संस्था के लिए पैरवी नहीं करते हैं। हम सभी के पास अपनी धार्मिक और मान्यताओं के पालन का पूरा अधिकार है, लेकिन रिपोर्टिंग कवरेज के दौरान सुनिश्चित करें कि आप अपनी मान्यताओं को दूसरों पर न थोपें।
अनाम स्रोत नीति

जेएनएम की नीति और दिशा-निर्देश के अनुसार, अनाम स्रोत से लिए गए कंटेंट का इस्तेमाल तभी किया जा सकता है, अगर-

  • कंटेंट सूचना हो, कोई विचार या अटकलबाजी नहीं और न्यूज रिपोर्ट के लिए वह जरूरी हो।
  • सूचना उपलब्ध नहीं होगी, सिर्फ उस स्थिति में जब सूत्र ने नाम न देने की शर्त थोपी हो।
  • स्रोत भरोसेमंद होना चाहिए और उसके पास सटीक सूचना हो।
  • जागरण न्यू मीडिया सख्ती से मानता है कि जब भी संभव हो स्रोत की पहचान होनी चाहिए। जनता हकदार है कि उसे जहां तक संभव हो स्रोत की विश्वसनीयता के बारे में जानकारी मिले।
  • जेएनएम के संवाददाता/समाचार लेखक/संपादक अपने रिपोर्टिंग मैनेजर से अनुमति के बिना अनाम स्रोत से सूचना नहीं ले सकते हैं।
  • जेएनएम मानता है कि अनाम स्रोत से मिली सूचना के इस्तेमाल से महत्वपूर्ण खबरें बनाई जाएं, जो अन्यथा असूचित रह जाएंगी।
क्रिया प्रतिक्रिया

जागरण न्यू मीडिया समाचार लेखकों/संवाददाता/संपादक, समीक्षक, पाठक और जेएनएम के वरिष्ठ प्रबंधन समूह के बीच अर्थपूर्ण संवाद को बढ़ावा देता है। जेएनएम अपने पाठकों के साथ जुड़ने के लिए और उनके सुझाव, शिकायत व अन्य प्रतिक्रिया पर कार्य करने के लिए प्रतिबद्ध है।

पाठक किसी विशिष्ट खबर या कवरेज में मददगार हो सकते हैं, स्टोरी जो सवाल उठाए, उसका जवाब दे सकते हैं, संबंधित या उसके अधीन आने वाले मुद्दों की पहचान कर सकते हैं और नए व विविध स्रोत, विशेषज्ञ एवं दृष्टिकोण के बारे में सिखा सकते हैं। हम मानते हैं कि समाचार संस्थानों की जिम्मेदारी होती है कि वे जनता के साथ मूल्यों और मुद्दे के साथ जुड़ें, उस समय के विचार और उन समाचार संस्थानों को बदले में हासिल करने के लिए काफी कुछ होता है।

  • हमारे बारे में: समाचार स्रोत कवरेज और/या कार्यसूची पर चर्चा करने के लिए समर्पित एक पृष्ठ है, साथ ही थर्ड पार्टी सोशल मीडिया वेबसाइट (फेसबुक) पर पहुंच प्रदान करता है, जहां पाठक जागरण न्यू मीडिया न्यूज़ टीम के साथ सीधे और अनौपचारिक संबंध बना सकते हैं।
  • शिकायत: शिकायत के लिए समर्पित एक लिंक बनाया गया है, जो हमारी वेबसाइट के हर लेख के पेज पर आसानी से उपलब्ध है। यह पेज हमारे यूजर को एक सीधी प्रतिक्रिया प्रणाली प्रदान करता है, जहां वे लेख की किसी गलती, सुझाव या सुधार के लिए आग्रह कर सकते हैं।
  • स्टोरी पृष्ठ में टिप्पणी - पाठकों के पास हमारी वेबसाइट के हर लेख पर कमेंट करने का एक विकल्प होता है। सभी टिप्पणियां समाचार डेस्क द्वारा संचालित की जाती हैं। जेएनएम के पास पाठकों द्वारा प्रस्तुत टिप्पणी, संदेश और सामग्री को संपादित या रद्द करने का अधिकार होता है।
  • समाचार स्रोत कवरेज और / या एजेंडा पर चर्चा करने के लिए समर्पित एक स्पष्ट प्रणाली है।साथ ही थर्ड पार्टी सोशल मीडिया वेबसाइटों (फेसबुक) तक पहुंच प्रदान की जा रही है, जहां पाठक न्यूज टीम से साथ ज्यादा सीधे और अनौपचारिक संबंध बना सकते हैं।
  • पाठक प्रतिक्रिया की खबरें : विशेष रूप से प्रत्यक्ष प्रतिक्रिया प्रणाली हर समाचार लेख पृष्ठ से आसानी से सुलभ है। यह हमारी संपादकीय का मुख्य तत्व है। खबरें अपने पाठकों को एक सीधी प्रतिक्रिया प्रणाली प्रदान करता है, जो हर समाचार लेख पेज से आसानी से उपलब्ध है, जहां प्रत्येक लेख के लिए किसी त्रुटि, सुझाव या समायोजन का अनुरोध किया जाता है।
  • लेख अपडेट : पाठकों की टिप्पणी/प्रतिक्रिया के आधार पर लेख में अपडेट।
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept