j.src='https://www.googletagmanager.com/gtm.js?id='+i+dl;f.parentNode.insertBefore(j,f); })(window,document,'script','dataLayer','GTM-5CTQK3');

धान के धनी चाचा E 7: धान की फसल में कीट व रोगों पर कैसे नियंत्रण करें? आइए जानते हैं

धान के धनी चाचा E 7: धान की फसल में कीट व रोगों पर कैसे नियंत्रण करें? आइए जानते हैं

धान की फसल में कीट रोगों पर कैसे नियंत्रण करें? आइए जानते हैं

भारत में धान का प्रति हेक्टेयर औसत उत्पादन दुनिया के कई देशों से काफी कम है। इसकी सबसे बड़ी वजह है धान की फसल में लगने वाले कीट व रोगों का सही समय पर नियंत्रण नहीं होना। वहीं, दुनियाभर में धान की फसल में लगने कीट तथा रोगों के प्रकोप से सालाना लगभग 10 से 15 फीसदी उत्पादन कम होने का अनुमान है।

कवक के कारण लगने वाली प्रमुख बीमारियां- 

ब्लास्ट रोग -

धान में यह रोग नर्सरी में पौध तैयार करते समय से लेकर फसल बढ़ने तक लग सकता है। यह बीमारी पौधे की पत्तियों, तना तथा गांठों को प्रभावित करता है। यहां तक कि फूलों में इस बीमारी का असर पड़ता है। पत्तियों में शुरूआत में नीले रंगे के धब्बे बन जाते हैं जो बाद में भूरे रंग में तब्दील हो जाते हैं। जिससे पत्तियां मुरझाकर सुख जाती है। तने पर भी इसी तरह के धब्बे निर्मित होते हैं। 

 

कैसे करें नियंत्रण-

जैविक -इस रोग से रोकथाम के लिए ट्राइकोडर्मा विराइड प्रति 10 ग्राम मात्रा लेकर प्रति एक किलो बीज को उपचारित करना चाहिए। इसके अलावा बिजाई से स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस की 10 ग्राम मात्रा लेकर प्रति किलोग्राम बीज उपचारित करना चाहिए। खड़ी फसल के लिए ट्राइकोडर्मा विराइड या स्यूडोमोनास फ्लोरोसिस का लिक्विड फॉर्म्युलेशन की 5 मिलीलीटर मात्रा का प्रति लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें।

 

ब्राउन स्पॉट-

यह बीमारी नर्सरी में पौधे तैयार करते समय या पौधे में फूल आने के दो सप्ताह बाद तक हो सकती है। यह पौधे की पत्तियों, तने, फूलों और कोलेप्टाइल जैसे हिस्से को प्रभावित करता है। पत्तियों और फूलों पर विशेष रूप से लगने वाले इस रोग के कारण पौधे पर छोटे भूरे धब्बे दिखाई देने लगते हैं। यह धब्बे पहले अंडाकार या बेलनाकार होते है फिर गोल हो जाते हैं। 

3.67 mins
  • धान के धनी चाचा E 7: धान की फसल में कीट व रोगों पर कैसे नियंत्रण करें? आइए जानते हैं

    धान के धनी चाचा E 7: धान की फसल में कीट व रोगों पर कैसे नियंत्रण करें? आइए जानते हैं

    धान की फसल में कीट व रोगों पर कैसे नियंत्रण करें? आइए जानते हैं भारत में धान का प्रति हेक्टेयर औसत उत्पादन दुनिया के कई देशों से काफी कम है। इसकी सब..See More

  • धान के धनी चाचा E6 : जानिए कैसे करें धान की खेती में पोषक तत्वों और सिंचाई का प्रबंधन ?

    धान के धनी चाचा E6 : जानिए कैसे करें धान की खेती में पोषक तत्वों और सिंचाई का प्रबंधन ?

    धान की खेती में पोषक तत्वों और सिंचाई का प्रबंधन कैसे करें धान समेत विभिन्न फसलों में आवश्यक पोषक तत्वों की कमी को पूरा करने के लिए रासायनिक उर्वरको..See More

  • धान के धनी चाचा E5 : जानिए कैसे  मशीनीकरण और आधुनिक तकनीकी अपनाकर लागत हो सकती है कम?

    धान के धनी चाचा E5 : जानिए कैसे मशीनीकरण और आधुनिक तकनीकी अपनाकर लागत हो सकती है कम?

    धान की खेती: मशीनीकरण और आधुनिक तकनीकी अपनाकर लागत कम करें  आज देश में धान की खेती करने वाले किसानों को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। एक तरफ..See More

  • धान के धनी चाचा E4: धान के अधिक उत्पादन के लिए उगाए ये प्रमुख उन्नत किस्में

    धान के धनी चाचा E4: धान के अधिक उत्पादन के लिए उगाए ये प्रमुख उन्नत किस्में

    धान के अधिक उत्पादन के लिए उगाए ये प्रमुख उन्नत किस्में   जनसंख्या के लिहाज से चीन के बाद भारत सबसे बड़ा देश है। इतनी बड़ी आबादी के लिए अन्न की पूर्ति ..See More

  • धान के धनी चाचा E3 : क्या आप कर रहे हैं धान की खेती के लिए सही बीज का चुनाव ? ......अगर नहीं तो सुनिए ये खास Podcast..

    धान के धनी चाचा E3 : क्या आप कर रहे हैं धान की खेती के लिए सही बीज का चुनाव ? ......अगर नहीं तो सुनिए ये खास Podcast..

    धान की खेती के लिए नर्सरी प्रबंधन और रोपाई कैसे करें? भारत में धान की खेती मुख्यतः रोपाई के जरिए ही की जाती है। हालांकि, जिन क्षेत्रों में पानी की कम..See More

  • धान की खेती के लिए पडलिंग या गीली जुताई कैसे करें

    धान की खेती के लिए पडलिंग या गीली जुताई कैसे करें

    धान की खेती के लिए पडलिंग या गीली जुताई कैसे करें? आइए जानते हैं इसका महत्त्व  खरीफ सीजन के लिए धान की खेती (Paddy Farming) जून-जुलाई महीने में की जा..See More

  • धान की वैज्ञानिक खेती : रोपाई से पहले ऐसे करें खेत की तैयारी, ये हैं प्रमुख फायदें

    धान की वैज्ञानिक खेती : रोपाई से पहले ऐसे करें खेत की तैयारी, ये हैं प्रमुख फायदें

    भारत भले ही दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा धान उत्पादक देश है लेकिन प्रति हेक्टेयर के औसत उत्पादन में बहुत पीछे हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह हैं आज भी देश में परं..See More