नई दिल्ली। भारत के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने सोमवार को इन आरोपों को खारिज किया कि भारतीय बल्लेबाजों की तकनीक इंडियन प्रीमियर लीग [आईपीएल] में ताबड़तोड़ क्रिकेट खेलने के कारण खराब हुई है। साथ ही अंतिम मैच के लिए टीम में फिरकी गेंदबाज अश्विन को रखने की वकालत भी की।

यह पूछने पर कि क्या आईपीएल खेलने से भारतीयों की तकनीक खराब हुई है, गावस्कर ने ना में जवाब दिया। उन्होंने कहा, मुझे नहीं लगता कि आईपीएल को इसके लिए दोषी ठहराया जाना चाहिए। इन क्रिकेटरों ने रणजी में काफी रन बनाए हैं और उसके बाद ही टेस्ट टीम में उनका चयन हुआ है। उन्होंने कहा, यदि आईपीएल कारण है तो डेविड वार्नर रन कैसे बना रहा है। दूसरी अंतरराष्ट्रीय टीमों के बल्लेबाज रन कैसे बना रहे हैं और सिर्फ भारतीय बल्लेबाज ही आईपीएल से प्रभावित कैसे हो रहे हैं। आईपीएल की संचालन परिषद के सदस्य रह चुके गावस्कर ने कहा कि भारत के सीनियर बल्लेबाजों ने आईपीएल खेलने के बावजूद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अच्छा प्रदर्शन किया है। उन्होंने कहा, क्या वीवीएस लक्ष्मण, राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर की तकनीक पर असर पड़ा है या वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर की। सिर्फ पिछली दो विदेश सीरीजों में वे अच्छा नहीं खेल सके हैं। आईपीएल को दोष देने से कुछ नहीं होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि एडिलेड में होने वाले चौथे टेस्ट मैच से पूर्व कुछ कड़े फैसले लेने चाहिए। टीम प्रबंधन को धौनी के साथ बैठकर चर्चा करनी चाहिए। उनके पास अगले मैच से पूर्व आठ दिन है। अगर उन्हें लगता है कि एक अतिरिक्त गेंदबाज चाहिए तो एक बल्लेबाज को निकाल कर आर अश्विन को टीम में रखना चाहिए।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर