अपने पसंदीदा टॉपिक्स चुनें close

मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है

संजय पोखरियाल   |  Publish Date:Thu, 28 Sep 2017 11:39 AM (IST)
मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है
मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है

देवी दुर्गा के नौ रूपों में महागौरी आठवीं शक्ति स्वरूपा हैं। दुर्गा पूजा के आठवें दिन महागौरी की पूजा अर्चना की जाती है। महागौरी आदि शक्ति हैं इनके तेज से संपूर्ण विश्र्व प्रकाश-मान होता है इनकी शक्ति अमोघ फलदायिनी है। महागौरी की अराधना से भक्तों को सभी कष्ट दूर हो जाते हैं तथा देवी का भक्त जीवन में पवित्र और अक्षय पुण्यों का अधिकारी बनता है।

मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है
मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है

नवरात्र के दसों दिन कुंवारी कन्या भोजन कराने का विधान है परंतु अष्टमी के दिन का विशेष महत्व है। इस दिन महिलाएं अपने सुहाग के लिए देवी मां को चुनरी भेंट करती हैं। देवी गौरी की पूजा का विधान भी पूर्ववत है अर्थात जिस प्रकार सप्तमी तिथि तक आपने मां की पूजा की है उसी प्रकार अष्टमी के दिन भी देवी की पंचोपचार सहित पूजा करें।

मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है
मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है

महाष्टमी के दिन व्यक्ति को देवी भगवती की पूरे विधि विधान से पूजा करनी चाहिए। नवरात्र के नौ दिनों में प्रतिदिन एक शक्ति की पूजा का विधान है। सृष्टि की संचालिका कही जाने वाली आदिशक्ति की नौ कलाएं (विभूतियां) नवदुर्गा कहलाती हैं। मार्कण्डेय पुराण में नवदुर्गा का शैलपुत्री, ब्रहमचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्माण्डा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री के रूप में उल्लेख मिलता है।

मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है
मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है

महागौरी ने तप कर गौर वर्ण प्राप्त किया था। मां महागौरी को अन्नपूर्णा देवी भी कहा जाता है। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा की नवरात्रि की अष्टमी के दिन आदिशक्ति की पूजा करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इस दिन को महाअष्टमी भी कहा जाता है। इस दिन मां दुर्गा की प्रतिमा को शुद्ध जल से स्नान कराकर वस्त्राभूषणों द्वारा पूर्ण शृंगार किया जाता है और फिर विधिपूर्वक आराधना की जाती है। हवन की अग्नि जलाकर धूप, कपूर, घी, गुग्गुल और हवन सामग्री की आहुतियां दीजिए।

मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है
मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है

सिन्दूर में एक जायफल को लपेटकर आहुति देने का भी विधान है। धूप, दीप, नैवेद्य से देवी की पूजा करने के बाद मातेश्वरी की जय बोलते हुए 101 परिक्रमाएं दी जाती हैं। इस पर्व पर नवमी को प्रात: काल देवी का पूजन किया जाता हैं। अनेक पकवानों से दुर्गाजी को भोग लगाया जाता है। छोटे बालक-बालिकाओं की पूजा करके उन्हें पूड़ी, हलवा, चने और भेंट दी जाती है।

मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है
मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है

देवी गौरी शिव की अर्धांगिनी हैं और इस कारण वे शिवा और शाम्भवी नाम से भी पूजित हैं। मां के गौर वर्ण के संदर्भ में एक कथा है कि भगवान भोलेनाथ को पति रूप में पाने के लिए उन्होंने कठोर तपस्या की जिससे इनका शरीर काला पड़ गया। देवी की तपस्या से प्रसन्न होकर भोलेनाथ ने इन्हें स्वीकार किया और गंगा जल की धार जैसी ही देवी पर पड़ी देवी विद्युत के समान अत्यंत कांतिमान गौर वर्ण की हो गईं और उन्हें मां गौरी नाम मिला। देवी के इस रूप की प्रार्थना करते हुए देव और ऋषिगण कहते हैं “सर्वमंगल मंग्ल्ये, शिवे सर्वार्थ साधिके. शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोस्तुते..”।

मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है
मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है

अष्टमी के दिन महिलाएं अपने सुहाग के लिए देवी मां को चुनरी भेंट करती हैं। देवी गौरी की पूजा का विधान भी पूर्ववत है अर्थात जिस प्रकार सप्तमी तिथि तक आपने मां की पूजा की है उसी प्रकार अष्टमी के दिन भी प्रत्येक दिन की तरह देवी की पंचोपचार सहित पूजा करते हैं। पुराणों में माँ महागौरी की महिमा का प्रचुर आख्यान किया गया है। ये मनुष्य की वृत्तियों को सत्‌ की ओर प्रेरित करके असत्‌ का विनाश करती हैं। हमें प्रपत्तिभाव से सदैव इनका शरणागत बनना चाहिए।

मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है
मां दुर्गा की आठवीं शक्ति का नाम 'महागौरी' है

माता महागौरी के मंत्र !!

श्वेते वृषे समारूढा श्वेताम्बरधरा शुचिः |

महागौरी शुभं दद्यान्त्र महादेव प्रमोददा ||

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

अर्थ : हे माँ! सर्वत्र विराजमान और माँ गौरी के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। हे माँ, मुझे सुख-समृद्धि प्रदान करो।

DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.OK