• Podcast
  • Epaper
  • Hindi News

a

मेंढकी से अप्‍सरा और फिर रावण की पत्‍नी बनी मंदोदरी

10 photos    |  Published Thu, 29 Jun 2017 01:29 PM (IST)
1/ 10कौन थी मंदोदरी
कौन थी मंदोदरी

राम रावण का युद्ध और रावण द्वारा सीता का अपहरण ये सब कथायें सबको जबानी याद हैं पर क्‍या आप रावण की पत्‍नी मंदोदरी की कथा जानते हैं। नहीं ना तो चलिए आज सुनाते हैं मंदोदरी की कहानी।

2/ 10अप्‍सरा मधुरा को पार्वती का श्रॉप
अप्‍सरा मधुरा को पार्वती का श्रॉप

मधुरा नाम की एक अप्‍सरा भगवान शिव को रिझाने के प्रयास में माता पार्वती के क्रोध का शिकार हुई और देवी पार्वती ने उसे कड़ा दंड देते हुए भयंकर श्रॉप दिया।

3/ 10मेंढकी बन जा
मेंढकी बन जा

माता पार्वती ने मधुरा को आजीवन मेंढकी बन कर शिवलोक के निकट एक कूंए में पड़े रहने का श्रॉप दिया और वो मेंढकी बन गयी।

4/ 10प्रार्थना से पिघलीं देवी
प्रार्थना से पिघलीं देवी

बार बार भगवान शिव के समझाने और मधुरा के अपने अज्ञान के चलते ऐसा अपराध करने की क्षमा मांगने पर देवी पार्वती ने उसके दंण्‍ड की अवधि को कम करने का वरदान दिया पर 12 साल कठोर तप करने के बाद।

5/ 10मय दानव और उसकी पत्‍नी को मिली मधुरा
मय दानव और उसकी पत्‍नी को मिली मधुरा

जब मधुरा के तप और श्रॉप की अवधि पूरी हुई तो उसी स्‍थान पर मय दानव अपनी अप्‍सरा पत्‍नी हेमा के साथ पुत्री की प्राप्‍ति के लिए तप कर रहा था। इन दोनों ने मधुरा को अपनी पुत्री के रूप में स्‍वीकार किया और नाम दिया मंदोदरी।

6/ 10मोहित हुआ रावण
मोहित हुआ रावण

जब रावण मय दानव से मिलने पुहंचा तो उसकी पुत्री मंदोदरी के रूप पर मोहित हो गया और उससे विवाह की इच्‍छा की, परंतु मय ने इंकार कर दिया जिस पर रावण क्रोधित हो गया।

7/ 10माता पिता की रक्षा के लिए किया रावण से विवाह
माता पिता की रक्षा के लिए किया रावण से विवाह

मंदोदरी जानती थी कि रावण शिव का अन्‍यय भक्‍त है और बलशाली भी वो उसके पिता को कष्‍ट में डाल सकता है। उनकी रक्षा के लिए रावण के दवाब में उसने विवाह की स्‍वीकृति देदी।

8/ 10रावण को संमाग्र पर लाने का प्रयास
रावण को संमाग्र पर लाने का प्रयास

मंदोदरी जानती थी कि रावण अंहकारी और दुष्‍ट प्रवृत्‍ति का है परंतु वो उसे हमेशा सही मार्ग दिखाने का प्रयास करती थी। उसने रावण से सीता को श्रीराम को वापस करने के लिए कहा, क्‍योंकि उसे पता था कि रावण की राम के हाथों मृत्‍यु तय है।

9/ 10तीन बलशाली पुत्रों की मां
तीन बलशाली पुत्रों की मां

मंदोदरी और रावण के तीन सुर्दशन और बलशाली पुत्र थे अक्षय कुमार, मेघनाथ और अतिकाय। राम रावण युद्ध में तीनो पुत्र गंवाने वाली मंदोदरी ने उस समय भी रावण को समझाने का प्रयास किया था, परंतु जब रावण नहीं माना तो पतिव्रता स्‍त्री की तरह रावण को युद्ध में भेजा और उसकी मृत्‍यु पर अपने दुर्भाग्‍य का अफसोस भी किया।

10/ 10राम के कहने पर किया विभीषण से विवाह
राम के कहने पर किया विभीषण से विवाह

रावण की मृत्‍यु के पश्‍चात विभीषण के राजा बनने के बाद मंदोदरी ने खुद को एक कक्ष में एक साल तक शोक मनाने के लिए बंद रखा। इसके बाद भगवान राम के कहने पर विभीषण से विवाह किया और लंका की साम्राज्ञी बनी रही। विभीषण के साथ मिल कर उन्‍होंने अपने राज्‍य को संमाग्र पर बढ़ाने का कार्य किया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept