• Book Ad
  • Epaper
  • Hindi News

बॉडी केमिस्ट्री के हिसाब से चुनें अपने लिए सही परफ्यूम

5 photos    |  Published Wed, 27 May 2020 02:46 PM (IST)
1/ 5उम्र
उम्र

बॉडी केमिस्ट्री पर उम्र का असर भी पड़ता है। हर पुरुष व स्त्री को अलग-अलग समय पर हॉर्मोनल बदलावों का सामना करना पड़ता है। बचपन से टीनएजर तक का सफर इसका पहला पड़ाव होता है। प्यूबर्टी का समय भी त्वचा की गंध को काफी बदलता है।

2/ 5दबाव या तनाव
दबाव या तनाव

जब व्यक्ति अधिक दबाव या बेचैनी महसूस करता है, उसके दिल की धड़कन पर इसका असर पड़ता है। हथेलियां, माथे या शरीर के अन्य हिस्सों में पसीना आने लगता है। ये तमाम बातें बॉडी केमिस्ट्री पर भी असर डालती हैं, इसलिए शरीर की गंध भी बदल जाती है।

3/ 5खानपान
खानपान

हम जैसा खाते हैं, उसका सीधा असर त्वचा की गंध पर पड़ता है। अगर कोई ज्यादा मसाले, लहसुन, प्याज का सेवन करता है, उसके पसीने से इसकी गंध आने लगती है। इसका कारण यह है कि त्वचा की गंध में इनकी गंध मिल जाती है।

4/ 5गर्भावस्था
गर्भावस्था

इस समय भी कई तरह के हॉर्मोनल बदलाव होते हैं। ऐसे में बॉडी केमिस्ट्री भी बदलती है। हो सकता है जो गंध पहले त्वचा को रास आती है, गर्भावस्था के समय वह पसंद न आए।

5/ 5मेनोपॉज
मेनोपॉज

मेनोपॉज बॉडी केमिस्ट्री पर बहुत प्रभाव डालता है। त्वचा रूखी-पतली हो जाती है। टेस्टोस्ट्रॉन व एस्ट्रोजन स्तर में बदलाव होते हैं और रात में पसीना आता है। कुछ दवाइयां व स्वास्थ्य समस्याएं भी त्वचा की गंध को परिवर्तित करती हैं। डायबिटीज के रोगी के लिए परफ्यूम चुनना मुश्किल है। इसका कारण यह है कि उनके ब्लड शुगर का स्तर घटता-बढता रहता है। शुगर स्तर के साथ ही परफ्यूम की गंध भी बदलती है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept