अपने पसंदीदा टॉपिक्स चुनें close

बोरवेल से निकाली गई बहादुर सना को मिठाई खिलाकर पीएमसीएच से दी गई विदाई, देखें तस्वीरें..

Kajal   |  Publish Date:Fri, 10 Aug 2018 04:00 PM (IST)
बोरवेल से निकाली गई बहादुर सना को मिठाई खिलाकर पीएमसीएच से दी गई विदाई, देखें तस्वीरें..
बोरवेल से निकाली गई बहादुर सना को मिठाई खिलाकर पीएमसीएच से दी गई विदाई, देखें तस्वीरें..

जिंदगी और मौत की लड़ाई पर जीत हासिल करने वाली मुंगेर की बहादुर बेटी तीन साल की सना अब स्वस्थ है। इलाज के बाद स्वस्थ सना को पटना के पीएमसीएच अस्पताल से मिठाई खिलाकर विदा किया गया। उसे विदा करने लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा था।

बोरवेल से निकाली गई बहादुर सना को मिठाई खिलाकर पीएमसीएच से दी गई विदाई, देखें तस्वीरें..
बोरवेल से निकाली गई बहादुर सना को मिठाई खिलाकर पीएमसीएच से दी गई विदाई, देखें तस्वीरें..

29 घंटे बोरवेल में रहने के बाद निकली सना के कान के पास सूजन आने के बाद उसे मुंगेर से पटना के पीएमसीएच में भर्ती कराया गया था जहां से बिल्कुल स्वस्थ होकर वह शुक्रवार को घर के लिए रवाना हो गई।

बोरवेल से निकाली गई बहादुर सना को मिठाई खिलाकर पीएमसीएच से दी गई विदाई, देखें तस्वीरें..
बोरवेल से निकाली गई बहादुर सना को मिठाई खिलाकर पीएमसीएच से दी गई विदाई, देखें तस्वीरें..

जब पीएमसीएच से वो निकल रही थी तो वहां मौजूद हुजूम उसकी एक झलक पाने को बेताब था। पीएमसीएच के अधीक्षक डॉक्टर राजीव रंजन प्रसाद ने वहीं उसे पीएमसीएच का ब्रांड एम्बैसेडर बनाने का एलान कर दिया।

बोरवेल से निकाली गई बहादुर सना को मिठाई खिलाकर पीएमसीएच से दी गई विदाई, देखें तस्वीरें..
बोरवेल से निकाली गई बहादुर सना को मिठाई खिलाकर पीएमसीएच से दी गई विदाई, देखें तस्वीरें..

पीएमसीएच में उसका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने सना को फूलों से लाद दिया और और उसे मिठाई खिलाकर अस्पताल से रवाना किया। वह अपने साथ कई जाने -अनजाने लोगों से मिले गिफ्ट को सहेज कर ले गई है।

बोरवेल से निकाली गई बहादुर सना को मिठाई खिलाकर पीएमसीएच से दी गई विदाई, देखें तस्वीरें..
बोरवेल से निकाली गई बहादुर सना को मिठाई खिलाकर पीएमसीएच से दी गई विदाई, देखें तस्वीरें..

पीएमसीएच के डॉक्टर राजीव रंजन प्रसाद ने सना की जीवटता को सलाम किया और कहा कि ऐसी बहादुर बच्ची पर बिहार को नाज है। बता दे कि दो अगस्त को एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम ने 29 घंटे से बोरवेल में गिरी बहादुर सना को कड़ी मेहनत के बाद सुरक्षित बाहर निकाला था।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.OK