नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारतीय बैडमिंटन संघ (BAI) ने 15 मई को थामस कप जीतकर इतिहास रचने वाली टीम को कैश प्राइज देकर सम्मानित किया। भारतीय बैडमिंटन टीम ने 1949 के बाद पहली बार थामस कप के खिताब पर कब्जा कर इतिहास रचा था। इस मौके पर बीएआई के अध्यक्ष हिमंत बिस्वा सरमा ने भारतीय टीम को बधाई दी। इस मौके पर उनके अलावा बीएआई के अन्य अधिकारी और मुख्य राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद भी मौजूद थे। बीएआई ने भारतीय टीम को एक करोड़ रुपये और सहयोगी स्टाफ को 20 लाख रुपये का नकद पुरस्कार भी दिया।

भारतीय बैडमिंटन टीम ने किदांबी श्रीकांत के नेतृत्व में 15 मई को बैडमिंटन के वर्ल्ड कप कहे जाने वाले थामस कप पर 73 साल बाद कब्जा किया। उन्होंने फाइनल मैच में सबसे ज्यादा बार थामस कप का खिताब जीतने वाली टीम इंडोनेशिया को 3-0 से हराकर ये ऐतिहासिक जीत दर्ज की।

इंडोनेशिया के नाम 14 बार थामस कप जीतने का रिकार्ड था और भारत ने पहले कभी भी थामस कप के फाइनल में जगह तक नहीं बनाई थी बावजूद इसके टीम ने बेहतरीन खेल दिखाते हुए इतिहास रच दिया। इससे पहले भारतीय बैडमिंटन पुरुष टीम ने 1952, 1955 और 1979 में थामस कप के सेमीफाइनल में जगह बनाई थी, जबकि महिला टीम ने 2014 और 2016 में उबर कप के शीर्ष चार में जगह बनाई थी।

Edited By: Sameer Thakur