नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। दिल्ली के नेताजी सुभाष नेशनल इंस्टीच्यूट आफ स्पोर्ट्स में हुए 3 दिन के ट्रायल के बाद आखिरकार भारत की तरफ से उन बाक्सरों को चुन लिया गया है जो कामनवेल्थ गेम्स 2022 में देश का प्रतिनिधित्व करेंगे। कामनवेल्थ गेम्स इस बार 28 जुलाई से 8 अगस्त के बीच बर्मिंघम में होना है। भारत की तरफ से वर्ल्ड चैंपियनशिप सिल्वर मेडलिस्ट अमित पंघाल और शिवा थापा ने अपनी जगह बना ली है। अमित ने 51 किलोग्राम केटेगेरी में अपनी जगह सुनिश्चित कर ली है।

भारतीय बाक्सिंग दल में जिन 6 बाक्सरों को जगह मिली है उनमें 2018 में ब्रोंज मेडल जीतने वाले मोहम्मद हुसामुद्दीन 57 किलोग्राम वर्ग में, रोहित टोकास 67 किलोग्राम वर्ग में, सुमित 75 किलोग्राम वर्ग में, आशिष कुमार 80 किलोग्राम वर्ग में, संजीत 92 किलोग्राम वर्ग में और सागर (92kg+) वर्ग में शामिल हैं।

अमित पंघाल की नजर मेडल के रंग बदलने पर

पंघाल ने कामनवेल्थ के पिछले एडिशन में सिल्वर मेडल अपने नाम किया था और अब उनकी नजर मेडल के रंग को बदलने की होगी। भारत को उनसे गोल्ड मेडल की उम्मीद है और अगले कुछ हफ्तों के लिए उनके पास मौका है कि वो अपनी तैयारियों को अंतिम रूप दे सकें।

ट्रायल का परिणाम

शिवा थापा ने 2018 कामनवेल्थ के सिल्वर मेडलिस्ट मनीष कौशिक को 5-0 से हराकर अपनी जगह कामनवेल्थ 2022 के लिए पक्की की। 57 किलोग्राम वर्ग में हुसामुद्दीन ने 2019 एशियन चैंपियनशिप सिल्वर मेडलिस्ट कविंदर सिंह बिष्ट को 4-1 से हराया। 67 किलोग्राम वर्ग में रोहित टोकास ने आदित्य प्रताप यादव को 3-2 से हराकर अपना स्थान पक्का किया।

सुमिथ, आशिष और संजीत ने अपने विरोधी को एकतरफा मुकाबले में 5-0 से हराकर अपना स्थान पक्का किया।

कामनवेल्थ 2018 में भारत ने 3 गोल्ड सहित 9 मेडल बाक्सिंग में जीते थे। महिला बाक्सरों का ट्रायल अगले हफ्ते किया जाएगा।

Edited By: Sameer Thakur