जागरण न्यूज नेटवर्क, नई दिल्ली। केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने एशियन गेम्स में भाग लेने वाले भारतीय खिलाडि़यों और अधिकारियों को शुभकामनाएं देते हुए सलाह दी कि वे सिर्फ अपना खेल खेलें और सर्वश्रेष्ठ दें, परिणाम की चिंता नहीं करें। साथ ही राठौर ने उन्हें सतर्क करते हुए कहा कि वे इस बड़ी प्रतियोगिता के दौरान मैदान पर और मैदान के बाहर जिम्मेदारी के साथ व्यवहार करें। ऐसा कुछ नहीं करें जिससे देश को शर्मिदा होना पड़े।

एशियन गेम्स के लिए भारत से 800 लोगों का दल जा रहा है जिसमें 572 एथलीट शामिल हैं। भारतीय ओलंपिक संघ (आइओए) द्वारा यहां आयोजित किए गए भारतीय दल के रवानगी समारोह के दौरान राठौर ने कहा, 'यह बहुत सम्मान का बात है कि आप भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। भारत का झंडा सीने पर लगाकर आप जाएं, यह सौभाग्य आपने कमाया है। आप जब वहां खेलेंगे और खेल गांव में रहेंगे तो आपको लोग भारत के नाम से बुलाएंगे, ना कि आपके नाम से। आपने बहुत तैयारी की है और काफी सपने देखे हैं और जैसे-जैसे दिन गुजर रहे हैं आप अपने सपने के करीब जाते जा रहे है। गेम्स के दौरान आप अपने कोच पर और खुद पर विश्वास रखें। परिणाम की चिंता नहीं करें। हजारों घंटों का अभ्यास और कड़ी मेहनत आपकी मदद करेगी। परिणाम अपने आप भाग कर आपके पीछे आएगा। नए विश्वास वाले भारत को मैं बधाई और शुभकामनाएं देता हूं।'

खिलाडि़यों के चयन को लेकर राठौर ने कहा, 'एशियन गेम्स के दल के चयन की प्रक्रिया के संबंध में इसकी जिम्मेदारी आइओए और खेल संघों पर है, लेकिन अगर कही भी विसंगति या कोई बड़ा मुद्दा हमारे सामने लाया जाता है तो हम इसे जरूर देखेंगे।' खिलाडि़यों की आर्थिक मदद के बारे में खेल मंत्री ने कहा, 'जब मैं खिलाड़ी था तो मैं अक्सर सुनता था कि खेल मंत्रालय के पास ज्यादा पैसा नहीं है, लेकिन अब ऐसा नहीं है। महाद्वीप और विश्व स्तर की प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले खिलाडि़यों के लिए पैसा उपलब्ध कराने के लिए खेल मंत्रालय के पास फंड की कमी नहीं है।'

Posted By: Sanjay Savern