प्योंगचांग, आइएएनएस। शीतकालीन ओलंपिक्स में तेज बर्फीली हवाओं और खराब मौसम की वजह से सोमवार को कई मुकाबले टालने पड़े। प्योंगचांग ओलंपिक के आयोजकों ने महिलाओं के जाएंट स्लोलोम मुकाबले को तेज हवा की वजह से गुरुवार तक के लिए टाल दिया। सियोल से 180 किलोमीटर दूर अल्पाईन सेंटर में सोमवार को सुबह 10.15 पर मुकाबला शुरू होना था लेकिन करीब 70 किलोमीटर प्रतिघंटे की तेज रफ्तार से चल रही बर्फीली हवा ने मुकाबले को शुरू नहीं होने दिया।

उधर अतंरराष्ट्रीय स्काई संघ ने कहा है कि उनके लिए खिलाड़ियों की सुरक्षा ज्यादा जरूरी है। अब ये मुकाबले गुरुवार को सुबह 9.30 और दोपहर 1.15 बजे से शुरू होंगे। सोमवार को जाएंट स्लोगोम मुकाबले में 81 स्कायर भाग लेने वाले थे। इस दौरान अल्पाईन सेंटर में तेज हवा के साथ -20 डिग्री सेल्सियस तापमान रिकॉर्ड किया गया। मालूम हो कि रविवार को भी खराब मौसम की वजह से कई मुकाबले स्थगित कर दिए गए थे।

रविवार को दक्षिण कोरिया में भूकंप के हल्के झटके भी महसूस किए गए थे। तीसरे दिन के खेल के बाद जर्मनी चार स्वर्ण, एक रजत और दो कांस्य झटककर कुल सात पदकों के साथ अंक तालिका में पहले नंबर पर है। वही तीन स्वर्ण सहित कुल सात पदक हासिल कर चुका नीदरलैंड्स दूसरे स्थान पर काबिज है। मेजबान दक्षिण कोरिया एक स्वर्ण जीतने में सफल रहा है और वह स्वीडन के बाद आठवें स्थान पर है।

केशवन बोले, देश के लिए खेलना खुशी से कम नहीं:

एक दिन पहले में संन्यास लेने वाले ल्यूज स्पर्धा के भारतीय खिलाड़ी शिवा केशवन ने सोमवार को कहा कि देश के लिए खेलना ही किसी भी खुशी से कम नहीं है। ल्यूज सिंगल्स स्पर्धा में रविवार को उन्होंने 34वां स्थान प्राप्त किया था और यह उनका आखिरी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता भी रही। केशवन ने कहा कि मैंने अपने ओलंपिक करियर की शुरुआत 16 साल की उम्र से की थी। समय तेजी के साथ बढ़ जाता है, जब आप वो कर रहे हों, जो आप करना चाहते हो।

आइओसी मुखिया थॉमस बाक करेंगे उत्तर कोरिया का दौरा

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आइओसी) के मुखिया थॉमस बाक के बाद उत्तर कोरिया का दौरा करेंगें। हालांकि इस मुलाकात की वजह नहीं बताई गई है लेकिन तीनों (आइओसी और दोनों कोरियाई देश) उपयुक्त तारीख पर विचार कर रहे हैं और 25 फरवरी को खत्म हो रहे के बाद कभी भी थॉमस बाक उत्तर कोरिया का दौरा कर सकते हैं। तकनीकी तौर पर अभी युद्ध का सामना कर रहे दोनों कोरियाई देश के उद्घाटन समारोह के दौरान एक झंडे तले मार्च पास्ट करते नजर आए थे जिससे इन दोनों देशों के बीच आपसी मतभेद खत्म होने की आशा की जा रही है। पिछले महीने आइओसी और दोनों देशों के बीच एक करार हुआ था। करार का नतीजा ही था कि करीब 12 वर्षो के बाद ओलंपिक में उत्तर और द. कोरिया एक साथ दिखाई दिए। द. कोरिया के पूर्व मंत्री किम संग-हान ने कहा है कि उत्तर कोरिया की ये पहल उसे स्वर्ण पदक का हकदार बनाती है।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Pradeep Sehgal