नई दिल्ली, जेएनएन। भारत के लिए 14वां दिन बेहतरीन साबित हुआ। भारत ने ब्रिज में एक गोल्ड मेडल, बॉक्सिंग में गोल्ड मेडल, स्क्वैश में सिल्वर मेडल और हॉकी में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किए। 14वें दिन भारत ने कुल चार मेडल जीते और भारत के मेडल की संख्या 69 हो गई। इसमें 15 गोल्ड मेडल, 25 सिल्वर मेडल और 29 ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं।

पुरुष हॉकी टीम ने जीता ब्रॉन्ज मेडल 

18वें एशियन गेम्स के हॉकी मुकाबले में भारतीय पुरुष हॉकी टीम का सामना पाकिस्तान के साथ हुआ। इस मैच में भारत ने पाकिस्तान को 2-1 से हराकर ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया। भारत की तरफ से खेल के तीसरे मिनट में आकाशदीप सिंह ने भारत के लिए पहला गोल किया। इसके बाद 50वें मिनट में भारत ने हरमनप्रीत सिंह ने भारत को लिए दूसरा गोल किया। पाकिस्तान की तरफ से 52वें मिनट में मुहम्मद ने गोल किया। भारत ने अब तक कुल 69 मेडल जीते हैं जिसमें 15 गोल्ड, 23 सिल्वर और 30 ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं।

भारतीय महिला स्क्वॉश टीम को मिला सिल्वर

एशियन गेम्स 2018 में भारतीय महिला स्क्वॉश को फाइनल में हांगकांग के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा, जिससे उन्हें सिल्वर मेडल हासिल हुआ। भारत ने अब तक कुल 68 मेडल जीते हैं जिसमें 15 गोल्ड, 23 सिल्वर और 29 ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं।

मुक्केबाजी में अमित का गोल्डन पंच

भारतीय मुक्केबाज अमित पंघाल ने 18वें एशियन गेम्स में भारत को 14वां गोल्ड मेडल दिलाया। 49 किलोग्राम भारवर्ग के मुक्केबाजी फाइनल प्रतियोगिता में अमित का सामना रियो ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट उजबेकिस्तान के हसनबॉय दुश्मातोव के साथ हुआ। इससे पहले अमित ने सेमीफाइनल मुकाबले में फिलीपींग से कार्लो को 3-2 से हराया था।

ब्रिज में भारत को मिला गोल्ड

अमित के बाद ब्रिज में भी भारत को गोल्ड मिला है, प्रणबना और शिबनाथ सरकार ने गोल्ड मेडल जीता। 60 वर्षीय प्रणबनाथ और 56 वर्षीय शिबनाथ सरकार की जोड़ी ने इस कम लोकप्रिय खेलों में गोल्ड मेडल जीता।

कयाक फोर में भारत के हाथ लगी निराशा

कयाक फोर (के4) के फाइनल में भारतीय टीम पदक जीतने से चूक गई। भारतीय टीम 1:51.729 का समय लेकर पांचवें स्थान पर रहीं। चीन ने 1.33.896 के समय के साथ गोल्ड, कजाखस्तान ने सिल्वर और उजबेकिस्तान ने ब्रॉन्ज मेडल जीता

जूडो में भारतीय टीम हारी

जूडो से भारत के लिए अच्छी खबर नहीं है। मिक्स्ड टीम को क्वार्टर फाइनल में कजाकिस्तान से 0-4 से हार का सामना करना पड़ा। इसके साथ ही वह पदक की दौड़ से बाहर हो गई। 

 

Posted By: Lakshya Sharma