उलान-उदे (रूस), प्रेट्र। एमसी मेरी कॉम सहित चार भारतीय मुक्केबाज शनिवार को जब महिला विश्व चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में उतरेंगी तो उनकी निगाहें अपने पदक के रंग को बेहतर करने पर होंगी।

तीसरी वरीय मेरी कॉम (51 किग्रा) ने रिकॉर्ड आठवां विश्व चैंपियनशिप का पदक पक्का कर लिया है। छह बार की चैंपियन मेरी का सामना तुर्की की यूरोपीय चैंपियन बुसानाज काकिरोग्लू से होगा। वहीं पहली बार खेल रही मंजू रानी (48 किग्रा), पिछले सत्र की कांस्य पदक विजेता और तीसरी वरीय लवलीना बोरगोहेन (69 किग्रा) और जमुना बोरो (54 किग्रा) भी सेमीफाइनल में पहुंची हैं। हरियाणा की महिला मुक्केबाज रानी का सामना अब थाइलैंड की सी रकसात से होगा। वहीं बोरो शीर्ष वरीय एशियन गेम्स की पूर्व कांस्य पदक विजेता हुआंग सियाओ वेन से होगा। बोरगोहेन की टक्कर चीन की यांग लियू से होगी जिसने शीर्ष वरीय चेन निएन चिन को मात दी थी।

राष्ट्रीय कोच मुहम्मद अली कमर ने कहा, 'सभी ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है। हम उम्मीद करते हैं कि ये सभी फाइनल में पहुंचेंगी। कोई कभी भी इतने से संतुष्ट नहीं हो सकता। हमें खुशी है कि 2018 सत्र से हमारा प्रदर्शन खराब नहीं हुआ लेकिन यह निराशाजनक है कि हम उसे बेहतर नहीं कर सके। हमारे छह मुक्केबाज सेमीफाइनल में होने चाहिए थे लेकिन कुछ नजदीकी मुकाबलों में हमें हार मिली।' भारत ने विश्व चैंपियनशिप में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 2006 में किया था। तब भारत ने चार स्वर्ण, एक रजत और तीन कांस्य अपनी झोली में डाले थे। मेरी कॉम ने उस साल भी स्वर्ण पदक जीता था।

 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस