प्योंगचांग, एएफपी। 11 महीने पहले 17 हड्डियां तुड़वाने वाले कनाडा के मार्क मैकमॉरिस ने शीतकालीन ओलंपिक में रविवार को पुरुषों के स्नोबोर्ड स्लोपस्टाइल में कांस्य पदक जीता। सोमवार को उस मुकाबले को याद करते हुए मैकमॉरिस ने कहा कि उनका कांस्य पदक चमत्कार है। दोबारा पोडियम पर खड़ा होना वाकई में खास है। पिछले साल मार्च में मैकमॉरिस स्नोबोर्डिग करते समय एक पेड़ से टकराकर गंभीर रूप से चोटिल हो गए थे जिस दौरान उनकी 17 हड्डियां टूटी थीं। उनकी चोट इतनी गंभीर थी कि वह कोमा में चले गए थे।

जान की बाजी लगाकर जेमी ने जीता सोना

तेज हवा और खराब मौसम के बावजूद अमेरिका की जेमी एंडरसन ने खतरों से खेलते हुए महिलाओं के स्लोपस्टाईल स्नोबोर्ड प्रतियोगिता का स्वर्ण पदक हासिल किया। 27 वर्षीय जेमी ने 2014 ओलंपिक में भी स्वर्ण पदक जीता था और उस क्रम को उन्होंने प्योंगचांग में बरकरार रखा। उन्होंने 83.00 का स्कोर बनाया।

इस वर्ग का रजत पदक कनाडा की लॉरी ब्लोइन ने हासिल किया जबकि कांस्य पर फिनलैंड की इनी रुकजार्वी ने कब्जा जमाया। वहीं कनाडा को पहला स्वर्ण पदक फिगर स्केटिंग में हासिल हुआ है। आइओसी के झंडे तले खेल रहे रूस को कनाडा ने 73 के मुकाबले 66 अंकों से पीछे छोड़कर स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। इस वर्ग का कांस्य पदक अमेरिका को मिला जिन्होंने 62 अंक बटोरे। कनाडा की इस जीत में गैब्रियाल डेलमैन और पैटिक चान ने अहम भूमिका निभाई।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Pradeep Sehgal