ग्वांग्जू, प्रेट्र: भारतीय पुरुष कंपाउंड तीरंदाजी टीम ने शनिवार को फाइनल में पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए फ्रांस को दो अंक से पछाड़कर विश्व कप चरण में स्वर्ण पदक जीत लिया है। जीत के बाद अभिषेक वर्मा, रजत चौहान और अमन सैनी ने पुष्पा के स्टाइल में अपनी खुशी का इजहार किया। 

वहीं इससे पहले मोहन भारद्वाज ने भी विश्व कप व्यक्तिगत रजत पदक जीता था। उन्होंने मौजूदा विश्व चैंपियन निको विएनर को हराकर उलटफेर करके सुर्खियां बटोरीं थी। भारत ने शनिवार को एक स्वर्ण, एक रजत और एक कांस्य पदक जीतकर विश्व कप चरण दो में अपना अभियान पांच पदक से समाप्त किया।

भारत ने दिन की शुरुआत पुरुष कंपाउंड टीम की शानदार वापसी से की जिसमें उन्होंने फ्रांस को 232-230 से शिकस्त देकर स्वर्ण पदक जीता। अभिषेक वर्मा, अमन सैनी और रजत चौहान की चौथी वरीयता प्राप्त तिकड़ी पहले दो दौर में छठी वरीयता प्राप्त प्रतिद्वंद्वी से पिछड़ रही थी। लेकिन तीसरे दौर में भारतीय तिकड़ी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए फ्रांस के एड्रियन गोंटियर, जीन फिलिप बलूच और केंटिन बराएर को 232-230 से शिकस्त देकर विश्व कप के दूसरे चरण में स्वर्ण पदक अपनी झोली में डाल लिया और देश को झूमने का मौका दिया।

भारतीय स्टार कंपाउंड तीरंदाज अभिषेक वर्मा ने फिर दूसरा पदक अपने नाम किया। उन्होंने अवनीत कौर के साथ मिलकर मिकस्ड टीम स्पर्धा में अपने से ऊंची वरीयता प्राप्त तुर्की की अमीरकान हाने और आयसे बेरा सुजेर की जोड़ी को 156-155 से हराकर कांस्य पदक जीता। विश्व रैंकिंग में 223वें नंबर पर काबिज भारद्वाज ने दुनिया के सातवें नंबर के आस्टि्रयाई प्रतिद्वंद्वी को सेमीफाइनल में 143-141 से हराकर उलटफेर किया और अपने करियर की सबसे बड़ी जीत दर्ज की। फाइनल में नीदरलैंड्स के दुनिया के नंबर एक माइक श्लोसर ने 149-141 की जीत से हालांकि, भारद्वाज का सफर समाप्त किया। इस तरह भारतीय तीरंदाज ने रजत पदक जीता।

Edited By: Sameer Thakur