संवाद सूत्र, सुंदरगढ़: सुंदरगढ़ जिले के कांसबाहाल स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट फॉर प्रोडक्शन मैनेजमेंट (आइआइपीएम) के निदेशक निरंजन नायक को हटाने की मांग पर छात्र-छात्राओं द्वारा चलाए जा रहे आंदोलन का गुरुवार को एक महीना पूरा हो गया। यहां पर आंदोलनरत विद्यार्थियों से बीरमित्रपुर विधायक जार्ज तिर्की, राउरकेला विधायक दिलीप राय समेत सुंदरगढ़ डीएम सुरेंद्र कुमार मीणा ने भी बातचीत कर समाधान का भरोसा दिया था। लेकिन अब यह मांग पूरी न होने से आंदोलनरत विद्यार्थियों ने अब न्याय के लिए मुख्यमंत्री कार्यालय, सीएमओ, प्रधानमंत्री कार्यालय, पीएमओ का दरवाजा खटखटाने का निर्णय लिया है।

इससे पूर्व इन विद्यार्थियों ने न्याय के लिए राउरकेला हाउस में राज्यपाल प्रो. गणेशीलाल से मुलाकात कर अपनी समस्या बताई थी। जिस पर राज्यपाल ने उनकी शिकायतें लिखित में देने का परामर्श देने के बाद इन विद्यार्थियों ने बुधवार की शाम उनसे मुलाकात कर लिखित में अपनी शिकायतें दी हैं। राज्यपाल ने उनकी समस्या का समाधान करने में सहयोग का भरोसा दिया है। वहीं दूसरी ओर गत 22 सितंबर को आइआइपीएम के अध्यक्ष मंगला किसान ने इस्तीफा देने के बाद भी उनका इस्तीफा मंजूर हुआ है या नहीं, इस पर अभी तक संशय बरकरार है क्योंकि इस बारे में अभी तक उच्च शिक्षा विभाग की ओर से कोई निर्देश नहीं जारी किया गया है। जिससे इस आंदोलन को अब सीएमओ व पीएमओ कार्यालय तक पहुंचाने का निर्णय आइआइपीएम के आंदोलनरत विद्यार्थियों ने लिया है।

Posted By: Jagran