मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सूत्र, राजगांगपुर : हाईवे पर दिनों दिन लुटेरों का आतंक बढ़ता जा रहा है। पुलिस से बेखौफ लुटेरे घटना को अंजाम देने से नहीं हिचक रहे हैं। इसी क्रम में एक बार फिर मंगलवार तड़के तीन बजे लुटेरों ने हाईवे पर एक और ट्रक चालक व उसके खलासी को अपना शिकार बना लिया।

सूचना के अनुसार सोमवार रात को रानिबंध के पास ओवरब्रिज के नीचे ट्रक लगाकर चालक और खलासी सो रहे थे। तभी एक बाइक पर तीन लुटेरे पहुंचे और ट्रक चालक मनोज कुजुर व खलासी अमृत बड़ा पर धारदार हथियार से हमला कर उनके पास से नगदी और मोबाइल लूट लिया। इस दौरान खलासी को लुटेरों ने बुरी तरह पीटा। ट्रक चालक रानिबंध का रहने वाला है। जिससे उसने तीन लुटेरों में से दो को पहचान लिया है। घटना के खलासी को राजगांगपुर सरकारी अस्पताल लाया गया। जहां प्राथमिक इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई। दोनों ने थाने में लुटेरों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। इस घटना के बाद दोनों में खौफ है।

इस खबर की जानकारी राजगांगपुर के कुछ ट्रक मालिकों को हुई। ट्रक मालिक छिनदे और जियाउल ह़क एवं मो. जमील मौके पर पहुंचकर चालक से बात की। चालक ने दो लुटेरों का नाम उन्हें बताया। चालक ने बताया कि दोनों लुटेरे रानीबंध के बगल में स्थित सुरुडीह गांव के रहने वाले आमुस कुल्लू एवं विपीन लाकरा है। इन दोनों के नाम से थाने में पहले से भी छिनतई के कई मामले दर्ज है। इसके बाद जियाउल हक एवं मो. जमील ट्रक चालक और कुछ अन्य ट्रक चालकों के साथ सुरुडीह गांव पहुंचे और विपीन लाकरा को पकड़ लिया। साथ ही पुलिस को भी सूचना दी। गांव में ट्रक मालिकों ने जैसे ही विपीन को पकड़ा गांव वाले उसके पक्ष में खड़ा हो गए। उसे छुड़वा लिया। इसी दौरान राजगांगपुर पुलिस पहुंच गई लेकिन गांव वालों की मदद से विपीन वहां से फरार हो गया। पुलिस के अनुसार विपीन और आमुस कुल्लु के खिलाफ थाने में कई मामले दर्ज है। पुलिस दोनों शिकायत दर्ज कर जांच में जुट गई है।

ट्रक चालकों पर लगातार हो रह हमले से ट्रक चालक सहित मालिकों में खौंफ है। उनका कहना है कि अगर जल्द से जल्द पुलिस इन लुटेरों के प्रति कोई ठोस कार्रवाई नहीं करती तो आगामी दिनों में भी चालकों की जान पर खतरा बना रहेगा। वहीं अंचल के लोगों का कहना है कि ट्रक चालकों से लूट में अधिकतर सुरुडीह गांव के ही लोग शामिल हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप