संवाद सूत्र, राजगांगपुर:

सीमेंटनगरी राजगांगपुर में गणेशोत्सव की विसर्जन तिथि को लेकर गतिरोध बरकरार हैं। जिसमें शनिवार की शाम हुयी शांति कमेटी की बैठक में भी इस पर कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया जा सका है। सावर्जनिक पूजा कमेटी व पुलिस प्रशासन जहां 20 सितंबर को विसर्जन के पक्ष में है। वहीं दूसरी पूजा कमेटियां 23 सितंबर को गणेश प्रतिमा विसर्जन की मांग कर रही हैं। जिस कारण विसर्जन की तिथि पर सहमति न बनने समेत इस वर्ष गणेश विसर्जन जुलूस का मार्ग बदलने को लेकर भी कोई फैसला नहीं किया जा सका।

शहर में गणेशोत्सव को लेकर दूसरी बैठक शनिवार की शाम राजगांगपुर थाना में हुई। सुंदरगढ़ एएसपी रविनारायण बारिक की उपस्थिति में हुई बैठक में 60 पूजा कमेटियों के प्रतिनिधि शामिल रहे। जिसमें गणेशोत्सव की विसर्जन तिथि तथा जुलूस का मार्ग बदलने को लेकर भी चर्चा की गई। इस बैठक में पुलिस प्रशासन ने आगामी 21 सितंबर को मुहरर्म तथा 22 सितंबर को झारसुगुड़ा में प्रधानमंत्री का कार्यक्रम होने से सार्वजनिक कमेटी द्वारा पहले दी गई विसर्जन की तिथि 20 सितंबर को ही विसर्जन करने का सलाह दी गई। इस पर अन्य पूजा कमेटी के प्रतिनिधियों ने इस बात पर नाराजगी जताई कि सार्वजनिक पूजा कमेटी ने सभी पूजा कमेटियों से परामर्श किए बिना 20 सितंबर को विसर्जन की तिथि क्यों निर्धारित की। जिससे अन्य पूजा कमेटियों ने विसर्जन की तिथि बढ़ाकर 23 सितंबर करने तथा विसर्जन शोभायात्रा पुराने मार्ग से निकलने की मांग रखी। लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला। जिसमें तो न तो विसर्जन की तिथि पर सहमति बनी है और न ही विसर्जन शोभायात्रा का मार्ग बदलने को लेकर। जिससे आगामी दो-तीन दिनों में इस बाबत एक अन्य एक बैठक आयोजित कर सर्वसम्मति से विसर्जन की तारीख समेत शोभायात्रा का मार्ग बदलने को लेकर अंतिम निर्णय लिया जा सकता है।

Posted By: Jagran