संवादसूत्र, बामड़ा : सुबर्णपाली आंचलिक धनुयात्रा महोत्सव शुक्रवार रात को कंस वध और महाराजा उग्रसेन के राज्याभिषेक के साथ संपन्न हुआ। महोत्सव के अंतिम दिन 50 हजार से अधिक संख्या में लोग कन्हैया और कंस का मल्ल युद्ध देखने के लिए सुबर्णपाली पहुंचे हुए थे। बीजद नेता विजय महांती समापन उत्सव में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। शुक्रवार दोपहर को कंस के राज दरबार में पश्चिम ओडिशा का प्रमुख त्योहार पुशपुनी पर मिलन समारोह का आयोजन हुआ। श्रीकृष्ण व बलराम का मथुरा भ्रमण, रजक तारण, कुबजा उद्धार, अक्रूर के संग कृष्ण और बलराम का कंस दरबार मे पहुंचना, धनुष तोड़ना, अस्टमल के साथ कृष्ण बलराम युद्ध, अस्टमल का निधन, मित्र राजाओं का परास्त होना, जरासंध पलायन, कंस निधन, उग्रसेन का राज्याभिषेक और धर्म की स्थापना आदि दृश्य मंचन किया गया था। धनुयात्रा में रेहटी, झूला, मीनाबाजार, मेला में सैकड़ों दुकानें लगी थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस