संवाद सूत्र, बामड़ा : पश्चिम ओडिशा के प्रसिद्ध बामड़ा मकर मेला और हरिहर मिलन के चौथे दिन धवलेश्वर महादेव रथारूढ़ होकर संप्रदा मंडली, कीर्तन मंडली एवं कृष्ण गुरु मंडली के साथ केछुपानी स्थित निज धाम धवलेश्वर मंदिर लौटे। बामड़ा श्री जगन्नाथ मंदिर में बाबा धवलेश्वर की विशेष पूजा-अर्चना की गई। बाबा प्रभु मदनमोहन के साथ मकर बैठने के पश्चात तीन दिनों तक मदनमोहन के मेहमान बन कर श्रीजगन्नाथ मंदिर में रहे। दोनो महाप्रभुओं के दर्शन के लिए तीनों दिन जगन्नाथ मंदिर में भक्तों की भीड़ लगी रही। चौथे दिन बाबा धवलेश्वर की विधि-विधान से पूजा-अर्चना के बाद भक्तों ने उनकी विदाई की और प्रभु के रथ को गांव की सीमा तक साथ रहे। केछुपानी गांव के खिरोद सा, गौंटिया सुनील नायक समेत बड़ी संख्या में ग्रामीण बाबा धवलेश्वर को लेने जगन्नाथ मंदिर पहुंचे थे। इस दौरान गोविंदपुर थानेदार प्रताप राणा समेत मंदिर कमेटी के मिना नायक, बीरबल पटेल और मकरमेला कमेटी के गुड्डू जैन प्रमुख की उपस्थिति में मंदिर पूजक अजय पुरोहित ने विदाई की रस्म निभायी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस