संबलपुर, जेएनएन। आंध्रा बैंक की जमनकिरा शाखा में गत माह तीन अगस्त को हुई 10 लाख की लूट मामले में पुलिस को एक और बड़ी सफलता मिली है। जमनकिरा पुलिस ने झारखंड की राजधानी रांची से इस डकैत गिरोह के मुखिया की पत्नी और एक अन्य सदस्य को गिरफ्तार कर लिया। संबलपुर लाने के बाद दोनों न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है। गिरफ्तार आरोपितों का नाम पारस भानु उर्फ भाइना और

संतोषिनी नाग बताया गया है। 

इससे पहले पुलिस ने इस मामले में एक सितंबर को गिरोह के मुखिया बुद्धदेव बिस्वाल, गंगासागर राय और राकेश बेहेरा को हावड़ा से पौने दो लाख नकदी और असलहे के साथ गिरफ्तार कर संबलपुर ले आई थी और पहली सितंबर को उन्हें जेल भेज दिया था।

रविवार शाम जमनकिरा थाना में कुचिंडा एसडीपीओ नृपचरण डनसेना और जमनकिरा थानाधिकारी प्रशांत कुमार मेहेर ने बताया कि गत माह तीन अगस्त को अपराह्न बाइक सवार तीन डकैतों ने पिस्तौल के बल पर आंध्रा बैंक से दस लाख नकदी लूट ली थी। इसके बाद पुलिस अधीक्षक संजीव अरोरा के निर्देश पर गठित टीम ने संबलपुर, झारसुगुड़ा, रांची, जमशेदपुर और कोलकाता में विभिन्न जगहों पर डकैतों की तलाश की। 31 अगस्त को तीन लोगों को हावड़ा से गिरफ्तार किया गया था।

गिरफ्तार आरोपितों में रांची के सुखदेव नगर थाना क्षेत्र में हरमू का रहने वाला गंगासागर राय भी शामिल था। आरोपितों पूछताछ में गिरोह के चौथे सदस्य पारस भानु उर्फ भाइना और गिरोह के मुखिया बुद्धदेव बिस्वाल की पत्नी संतोषिनी नाग के रांची में होने की जानकारी मिलने पर पुलिस की एक टीम रांची गई और वहां की पुलिस की सहायता से पारस और संतोषिनी को गिरफ्तार कर लिया। उनके पास से 23 हजार रुपये नकद, एक देसी पिस्तौल,  दो जिंदा कारतूस, सोने के गहने, एक बाइक, एक फ्रिज, एक होम थिएटर सिस्टम समेत घरेलू सामान जब्त किया गया है। 

Posted By: Babita