जागरण संवाददाता, राउरकेला : प्राथमिक विद्यालयों के प्रबंधन को बेहतर बनाने के लिए सरकार की ओर से शिक्षकों की पदोन्नति की घोषणा की गई है। इसमें सुंदरगढ़ जिले के ढाई हजार शिक्षक शामिल हैं। पदोन्नति के साथ ही प्रधानाध्यापक व सहायक प्रधानाध्यापक के रिक्त पद पूरे किए जाएंगे। जिले में चतुर्थ वर्ग के 498 प्राथमिक स्कूलों में प्रधानाध्यापक के पद रिक्त हैं। इनमें पांचवें ख वर्ग के अंडर ग्रेजुएट को पदोन्नति मिलेगी।

राज्य सरकार की ओर से पदोन्नति के लिए साल भर पहले संशोधित कैडर नियम लागू किया था। इस नियम के अनुसार एक नियमित सहायक शिक्षक कम से कम चार साल तक नौकरी करता है तो उसे शिक्षक 5 ख वर्ग में पदोन्नति पा सकता है। इसमें दो साल तक रहने के बाद चतुर्थ वर्ग में पदोन्नति तथा चतुर्थ वर्ग में दो साल तक रहने के बाद तृतीय वर्ग में पदोन्नति हो रही थी। इसमें ढील देकर पंचम वर्ग के लिए छह महीने तथा चतुर्थ वर्ग के लिए एक साल कम किया गया है। इससे जिले के ढाई हजार से अधिक शिक्षकों को पांचवें क से पांचवें ख वर्ग में पदोन्नति मिलेगी। करीब सभी चतुर्व वर्ग स्नातक शिक्षकों को प्राथमिक स्कूलों में प्रधानाध्यापक का पद मिलेगा। इससे प्रधानशिक्षकों की कमी पूरी होगी। जिले में चतुर्थ वर्ग के 799 विज्ञान स्नातक के साथ सीटी बीएड के 799 कला स्नातक के साथ सीटी बीएड के पद रिक्त हैं। इस तरह जिले के चतुर्थ वर्ग के 498 प्राथमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापक के पद रिक्त हैं। इनमें पंचक खा वर्ग के अंडर ग्रेजुएट को भी पदोन्नति मिलने की बात जिला प्राथमिक शिक्षक संघ की अध्यक्ष ममता कर, महासचिव गोविद चंद्र सुतार एवं जिला संगठन सचिव कुलदीप सेठ ने कही है।

Edited By: Jagran