जागरण संवाददाता, राउरकेला : उग्रवादी संगठन पीएलएफआइ के नाम पर राउरकेला के सिविल टाउनशिप निवासी क्रशर मालिक से दस लाख रुपये की लेवी मांगने के मामले में रघुनाथपल्ली थाना पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। दोनों आरोपित विभिन्न स्थानों में काम करने के साथ पीएलएफआइ संगठन में भी काम कर चुके हैं। इनमें बीरमित्रपुर के पीटर दफेइ गांव का मूल निवासी तथा वर्तमान कलुंगा स्थित सागजोर गांव में रहकर ब्राह्मणीतरंग थाना अंतर्गत शॉमिल ट्रांसपोर्ट में काम करने वाला चेतन उर्फ शिवदत्ता जयपुरिया (31) तथा बीरमित्रपुर थाना स्थित वनमुंडा दफेइ निवासी व कुआरमुंडा स्थित मंगलम संयंत्र में लोडर ऑपरेटर सुशील समर (32) शामिल है। इनके पास से देसी पिस्तौल, एक मैगजीन, दो गोली, दो लावा मोबाइल जब्त किया गया है। गुरुवार को दोनों आरोपितों को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से जेल भेज गया है।

गुरुवार को मीडिया को पानपोष एसडीपीओ शांता नुतन सामद ने बताया कि विगत 25 मार्च को सिविल टाउनशिप स्थित एक क्रशर मालिक को पीएलएफआइ सदस्य रंजन खेड़िया के नाम पर एक फोन आया था। उन्हें चार दिनों के भीतर संगठन को दस लाख रुपये की लेवी देने को कहा गया था। इसके बाद क्रशर मालिक ने इसकी सूचना पुलिस को दी थी। पुलिस ने आरोपितों को पकड़ने के लिए जाल बिछाया जिसमें दोनों आरोपित फंस गए और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। गिरने के बावजूद जलती रही स्ट्रीट लाइट : सरकारी कॉलेज मुख्य मार्ग की स्ट्रीट लाइट बुधवार की रात 10 बजे टूट गई। प्रकाश चालू था, क्योंकि बिजली की आपूर्ति में कटौती नहीं की गई थी। प्रशांत महासागर के तल के नीचे भूकंप का केंद्र था, हालांकि, कोई सुनामी की चेतावनी जारी नहीं की गई थी।

Edited By: Jagran