जागरण संवाददाता, राउरकेला : स्टेशनों में यात्रियों के साथ ट्रेनों की सुरक्षा के लिए दक्षिण पूर्व रेलवे (दपूरे) ने अपने सभी जोन सुरक्षा बढ़ा दी है। इसके तहत अब डॉग स्क्वॉयड को सक्रिय किया गया है। इसके जरिए स्टेशन, परिसर से लेकर ट्रेनों तक आपराधिक तत्वों, ट्रेनों में लिए जाने वाले आपत्तिजनक और खतरनाक वस्तु, ज्वलनशील पदार्थों पर पैनी नजर रखी जाएगी ताकि यात्रियों की जानमाल को सुरक्षित किया जा सके। अब तक कोई बड़ा हादसा होने पर ही डॉग स्क्वॉयड का इस्तेमाल किया जाता रहा है।

चक्रधरपुर आरपीएफ के डीएससी ओंकार सिंह के अनुसार, दक्षिण पूर्व रेलवे के मुख्यालय कोलकाता के गार्डेनरीच सहित खड़गपुर स्टेशन, संतरागाछी, टाटानगर, बंडामुंडा, राउरकेला, बांकुरा, बोकारो, आद्रा, रांची, हटिया और मूरी स्टेशनों की सुरक्षा के लिए डॉग स्क्वायड उपलब्ध कराया गया है। चक्रधरपुर मंडल अंतर्गत आरपीएफ को टाटा से राउरकेला तक ट्रेनों में जांच के लिए सीफर डॉग उपलब्ध कराया गया है। इस नस्ल के डॉग खास तौर पर विस्फोटक पदार्थ की पहचान करने में महारथ रखते है। इन डॉग के साथ विभाग के अधिकारी नियमित ट्रेन और स्टेशन में जांच करेंगे। गांजा, अफीम, ब्राउनशुगर आदि नशीले पदार्थ की पहचान करने वाला डॉग विभाग के पास नही है। ट्रेन के जरिये इन नशीले पदार्थ को ले जाने वालों को पकड़ने के लिए विभाग के कुछ विशेष अधिकारी और कर्मचारियों को लेकर विशेष दस्ता बनाया गया है। जो अपने सूत्रों व सूचना तथा औचक जांचकर इनकी धड़-पकड़ करते है। शीघ्र ही टाटा से लेकर राउरकेला के बीच डॉग स्कवायड के साथ आरपीएफ का विशेष दस्ता बना कर उनकी निगरानी में अभियान चला कर नशा कारोबारियों पर नकेल कसी जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस