गांजा तस्करों का हब बनता जा रहा राउरकेला, रेल पुलिस के साथ आबकारी विभाग की नींद उड़ी

जागरण संवाददाता, राउरकेला : स्मार्ट सिटी, राउरकेला गांजा कारोबारियों का हब बनता जा रहा है। कोरापुट, बलांगीर, फुलबानी जिलों से तस्कर गांजा लेकर राउरकेला पहुंच रहे हैं और यहां से बिहार, उत्तरप्रदेश एवं झारखंड भेजा जा रहा है। रेल पुलिस, आरपीएफ एवं आबकारी विभाग की छापेमारी में छह महीने के अंदर राउरकेला से ही 127.5 किलो गांजा बरामद हुआ है। नकली शराब का कोरोबार भी बढ़ा है। छह महीने के अंदर 558 मामले दर्ज हुए हैं एवं 526 लोगों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया है। राउरकेला आबकारी विभाग के आंकड़ों के अनुसार, जनवरी 2022 में 91, फरवरी में 99, मार्च में 103, अप्रैल में 108, मई में 106, जून में 51 मामले दर्ज किए गए हैं। शराब के कारोबार में प्रयुक्त 61 वाहन जब्त किए गए हैं। छह महीने के भीतर 127.600 किलो गांजा जब्त किया गया है। जनवरी महीने में 50.5 किलो तथा जून महीने में 41 किलो गांजा जब्त हुआ है। वहीं, अप्रैल महीने में 34.8 किलो गांजा जब्त किया गया। फरवरी एवं मार्च महीने को छोड़ दें तो बीते छह महीने के भीतर 86.250 लीटर विदेशी शराब, 133.19 लीटर बियर भी जब्त की गई है। छह महीने के भीतर आबकारी विभाग की ओर से 583.640 लीटर नकली विदेशी शराब के साथ जिस मात्रा में गांजा, ब्राउन शुगर, शराब एवं अन्य नशीले पदार्थ जब्त किए गए हैं उससे यह स्पष्ट हो रहा है कि स्मार्ट सिटी में नशा कारोबार तेजी से बढ़ रहा है। रेलवे स्टेशन में सबसे अधिक गांजा जब्त हो रहा है। कारोबारी बलांगीर, कोरापुट, फुलबानी, गंजाम आदि जिलों से सस्ते में गांजा खरीदकर उसे बिहार, झारखंड, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश के विभिन्न शहरों में भेजने का प्रयास कर रहे है। इनका नेटवर्क हर ओर बना हुआ है।

Edited By: Jagran