जागरण संवाददाता, राउरकेला : राउरकेला इस्पात संयंत्र के एमएमएस-2 के बीओएफ मैकेनिकल विभाग में कार्यरत 28 वर्षीय अलोक लकड़ा की शुक्रवार की सुबह सड़क हादसे में उस समय मौत हो गई जब वह जनरल शिफ्ट ड्यूटी के लिए कलुंगा स्थित अपने आवास से संयंत्र की ओर आ रहा था।

संयंत्र की ओर से अलोक लकड़ा को आरएसपी के सेक्टर-7 स्थित डी-97 में क्वार्टर मुहैया कराया गया है। इसके बावजूद वह कलुंगा स्थित अपने गांव में ही रहकर आना-जाना करते थे। वह अविवाहित थे। हमेशा की तरह शुक्रवार की सुबह वह अपनी बाइक से जनरल शिफ्ट ड्यूटी पर निकले थे। करीब साढ़े आठ बजे वेदव्यास टीसीआइ चौक के निकट सामने से आ रहे एक ट्रक ने उन्हे टक्कर मार दी, जिससे उनका संतुलन बिगड़ गया एवं छिटक कर गिर जाने से सिर व चेहरे में गंभीर चोट लगी। इससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और लाश को आइजीएच के शव गृह में भिजवाया। पुलिस ने दोनों वाहनों को जब्त कर घटना की छानबीन शुरू कर दी है।

आरएसपी सूत्रों के अनुसार कर्मचारी ऐसे कर्मचारी जिन्हें क्वार्टर मुहैया कराया गया है और क्वार्टर से ड्यूटी आने के दौरान हादसे में मौत होती है तो आश्रित को नौकरी एवं मुआवजा मिल सकता है पर क्वार्टर होने के बावजूद कोई कर्मचारी शहर से बाहर रहता है एवं आरएसपी के दायरे से बाहर हादसे में मौत होती है तो नौकरी देने का प्रावधान नहीं है। ऐसे कर्मचारी के आश्रित को नौकरी छोड़ कर नियमानुसार अन्य सुविधाएं मिल सकेंगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस