जागरण संवाददाता, राउरकेला : शहर के व्यस्ततम इलाके मधुसूदन मार्ग के पटेल बि¨ल्डग के पहले तल्ले पर स्थित इंडियन ओवरसीज बैंक में मंगलवार को सुबह करीब साढे़ दस बजे आधा दर्जन से अधिक बदमाश घुसे और पिस्तौल व मशीनगन समेत अन्य हथियार दिखाकर बैंक के लॉकर से करीब 42 लाख रुपये लेकर फरार हो गए। बदमाशों ने वारदात को अंजाम देने से पहले 13 बैंककर्मियों और ग्राहकों को वॉशरूम में कैद कर दिया। बदमाश बैंक में करीब आधा घंटे तक रहने के बाद फरार हुए। दिनदहाड़े डकैती की घटना को अंजाम देकर बदमाशों ने पुलिस को खुली चुनौती दी है। घटना की जानकारी मिलते ही डीआइजी व एसपी मौके पर पहुंचकर छानबीन में जुट गए। वहीं, शहर की सीमाओं को सील कर वाहनों की जांच तेज कर दिया गया है।

मधुसूदन मार्ग स्थित इंडियन ओवरसीज बैंक की शाखा हमेशा की तरह मंगलवार की सुबह करीब 9.45 बजे खुली। तब बैंक में मुख्य कैशियर मंगराज जेना, सीनियर मैनेजर जयनारायण सोहेला एवं सफाई कर्मी जगन्नाथ कुर्मी उपस्थित थे। करीब 10.30 बजे आधा दर्जन युवक चश्मा, टोपी एवं हेलमेट पहनकर पहुंचे। उन्होंने अपने एयरबैग एवं कपड़े के बैग से पिस्तौल व मशीनगन समेत अन्य हथियार निकाला और तीनों को काबू में लेकर लॉकर के सामने घुटने के बल पर बैठने को कहा। वे बैंककर्मियों से लॉकर की चाबी मांग रहे थे। इस बीच 13 बैंककर्मी एवं ग्राहक बैंक के अंदर आए बदमाशों ने सभी को पिस्तौल दिखाकर काबू में लेकर घुटने टेक कर बैठने के लिए विवश किया। सभी से मोबाइल छीन लिया एवं अलार्म तक पहुंचने से भी रोक दिया। इस बीच लॉकर की चाबी मिलने के बाद उन्होंने एयरबैग एवं कपड़े के थैले को रुपये भर लिए। उन्होंने सीसीटीवी कैमरा तोड़ने के साथ ही इसका हार्डडिस्क भी निकाल लिया। बैंक से निकलने से पहले बंधक बनाए गए 13 बैंककर्मी व ग्राहकों को वॉशरूम में बंद कर दिया एवं शोर मचाने पर जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद सभी बैंक से भागने में कामयाब हो गए।

घटना की सूचना मिलने पर डीआइजी कविता जालान, एसपी डा. उमाशंकर दास, प्लांट साइट समेत पांच थाना के अधिकारी टीम के साथ मौके पर पहुंचे और इस घटना की जानकारी हासिल की। घटना के बाद शहर की सीमा को सील कर वाहनों की छानबीन की गई। लेकिन कुछ सुराग नहीं लग पाया है। गौरतलब है कि साल भर पहले मधुसूदन मार्ग पटेल बि¨ल्डग से सटे भवन में स्थित एक फाइनेंस कंपनी के कार्यालय से चार करोड़ से अधिक का सोना लूट कर बदमाश फरार हो गए थे।

-----------

- सुबह 10.30 बजे तक बैककर्मियों के साथ ग्राहकों का भी आना शुरू हो गया था। बदमाशों के पास पिस्तौल व मशीनगन समेत अन्य हथियार थे। लॉकर की चाबी उनके हाथ न लगे इसके लिए काफी प्रयास किया गया। ग्राहक या बैंककर्मी द्वारा पुलिस तक खबर पहुंचाने की भी कोशिश की गई। डकैतों ने लोगों के साथ मारपीट भी की। वे लॉकर से करीब 42 लाख से अधिक रुपये लेकर भाग गए। जांच के बाद कितनी राशि वे लेकर गए हैं यह स्पष्ट होगा।

-संजय कुमार झा, मुख्य शाखा प्रबंधक।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस