जागरण संवाददाता, राउरकेला : राज्य सरकार ने दुर्घटना के 48 घंटे के भीतर सड़क दुर्घटना पीड़ितों को मुफ्त इलाज प्रदान करने के लिए लेवल- एक ट्रॉमा केयर सुविधाओं वाले आठ और अस्पतालों को सूचीबद्ध करने का निर्णय लिया है। जल्द ही पैनल में शामिल किए जाने वाले अस्पतालों में विशाखापत्तनम का मेडिकवर अस्पताल और रायपुर का रामकृष्ण केयर अस्पताल शामिल हैं। इसके साथ, दुर्घटना पीड़ित अब ओडिशा, आंध्र प्रदेश और छत्तीसगढ़ के 11 अस्पतालों में मुफ्त ट्रॉमा केयर उपचार प्राप्त कर सकते हैं। ओडिशा के नौ अस्पतालों में से सात भुवनेश्वर में और एक-एक कटक और राउरकेला में स्थित हैं। इनमें एएमआरआई अस्पताल, एसयूएम अस्पताल, केआईएमएस अस्पताल, हाई-टेक अस्पताल, कलिग अस्पताल, उत्कल इंस्टीटयूट ऑफ मेडिकल साइंस, भुवनेश्वर स्थित एसयूएम अल्टीमेट, कटक स्थित अश्विनी अस्पताल और राउरकेला स्थित जेपी अस्पताल हैं।

दो साल पहले शुरू हुई थी योजना : राज्य सरकार ने दो साल पहले फ्री ट्रीटमेंट फॉर ट्रॉमा फंड (एफटीटीएफ) योजना शुरू की थी और पांच साल के लिए 147.2 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया था। सितंबर 2019 में, सरकार ने तीन अस्पतालों को सूचीबद्ध किया था। जिसमें से दो भुवनेश्वर और एक कटक स्थित अस्पताल शामिल है। इन अस्पतालों को आघात पीड़ितों के इलाज के लिए 6 करोड़ रुपये आवंटित किए।

सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मृत्युदर को कम करने पर जोर : स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों ने बताया कि राज्य में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा सड़क सुरक्षा कोष की मदद से एफटीटीएफ योजना पहले से ही चल रही है। सरकार ने शीघ्र उपचार की सुविधा के लिए और गंभीर आघात के रोगियों के प्रबंधन में सहायता के लिए और अधिक अस्पतालों को जोड़ने का फैसला किया है ताकि सड़क दुर्घटनाओं के कारण होने वाली मृत्यु दर को कम किया जा सके।

Edited By: Jagran