जागरण संवाददाता, राउरकेला : केंद्र व राज्य सरकार की ओर से लोगों को पक्का घर मुहैया कराने के लिए विभिन्न योजनाएं चलाई जा रही है पर ग्रामीण क्षेत्र में अब भी बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं जिन्हें इसका लाभ नहीं मिल सका है। लहुणीपाड़ा ब्लाक के दिग्गी गांव के झरा साई निवासी गुरुचरण बेहरा पक्का घर के लिए ब्लाक व पंचायत का चक्कर काट कर परेशान हो गया पर घर नहीं मिला। पत्नी व दो बच्चों के साथ वह पॉलीथिन की छत वाली झोपड़ी में रहकर गुजर बसर कर रहा है।

सरकार की ओर से प्रधानमंत्री आवास योजना, बीजू पक्का घर योजना, मो कुड़िया योजना में सभी लोगों को पक्का घर मिले, इसके लिए प्रयास किए जा रहे हैं। दिग्गी गांव के झरा साई निवासी गुरुचणरण बेहरा भी इसका लाभ पाने के लिए वार्ड मेंबर के घर व पंचायत कार्यालय का चक्कर काट कर परेशान हो चुका है पर उसे इसका लाभ नहीं मिला। वह पॉलीथिन की छत वाली झोपड़ी में पत्नी व दो बच्चों के साथ रहता है। गरीबी के कारण वह नदी में मछली मार कर बेचने व दूसरों के घरों में मजदूरी कर किसी तरह परिवार का भरण पोषण करता है। गुरुचरण ने बताया कि उसने पक्का घर के लिए कई बार आवेदन किया। इसके लिए कागज भी जमा दिए पर काम नहीं हुआ। गर्मी व सर्दी में तो किसी तरह काम चल जाता है पर बारिश में उन्हें बड़ी परेशानी होती है। घर के कपड़े व बिछावन भींग जाते हैं एवं रात भर जाग कर गुजारना पड़ता है। उसके पास उतना पैसा भी नहीं है कि इसके लिए लहुणीपाड़ा व खुटगांव पंचायत कार्यालय जा सके। ग्रामीणों ने भी उसे पक्का घर क्यों नहीं मिला है इसकी जांच कराने तथा आवश्यक कदम उठाने के लिए वार्ड मेंबर व सरपंच से अनुरोध किया है।

Edited By: Jagran