जागरण संवाददाता, राउरकेला : आरएसपीकर्मी नृ¨सह साहू उर्फ कैलास की सेक्टर-1 में 27 दिसंबर को गोली मार कर की गई हत्या मामले की गुत्थी सुलझाते हुए पुलिस ने चार आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया किया गया। आरएसपी का क्वार्टर दिलाने के नाम पर डेढ़ लाख रुपये कैलास को दिया गया था। राशि लौटाने से इन्कार करने पर गोली मार कर उसकी जान ले ली गई थी।

सेक्टर-3 थाने में मीडिया से बातचीत करते हुए डीएसपी पीके मिश्र ने बताया कि छेंड कॉलोनी निवासी सुशांत ¨सह के पिता सुंदरलाल ¨सह 2013 में सेवानिवृत्त हुए थे। वह सस्ते में एक आरएसपी क्वार्टर लीज पर लेना चाह रहे थे। इसके लिए सेक्टर-1 के डी ब्लाक निवासी नृ¨सह साहू उर्फ कैलास राजी हुए एवं मध्यस्थता के लिए डेढ़ लाख की मांग की। कैलास एवं उसके ससुर पीके साहू ने मिलकर सुशांत को सेक्टर-7 में एक क्वार्टर दिलाया। जब सुशांत के परिवार के लोग वहां निर्माण कार्य करने लगे तक क्वार्टर के असली मालिक ने इसका विरोध किया। तब उन्होंने काम बंद कर कैलास से मध्यस्थता की रकम वापस मांगी। डेढ़ लाख में से केवल 20 हजार रुपये वापस कर कैलास बार बार टाल रहा था। सुशांत के साथ सेक्टर-19 निवासी जगन्नाथ नायक की सलाह पर सुशांत ने कैलास के साथ कोर्ट पेपर पर एग्रीमेंट कराने की सलाह दी। पेपर पर साइन नहीं करने पर डराने के लिए सेक्टर-15 के अजय नायक से एक पिस्तौल लिया। 27 दिसंबर की शाम को कोर्ट पेपर पर साइन कराने के लिए सब लोग उसके घर गए थे। लेकिन कैलास राजी नहीं हुआ और धमकी देने लगा। इससे नाराज सुशांत ने गोली चला दी जो कैलास की कनपट्टी पर लगी। जिससे उसकी मौत हो गई। इसके बाद सभी लोग वहां से फरार हो गए। ये लोग गंजाम निवासी कान्हूचरण नायक के घर जाकर छिपे थे। जांच के दौरान पता चलने पर पुलिस ने चारों आरोपितों को गिरफ्तार किया एवं सोमवार को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप