जागरण संवाददाता, राउरकेला :

शहर के प्रतिष्ठित बोथरा परिवार की वयोवृद्ध सदस्य रेशमी देवी मृत्यु के बाद भी दो नेत्रहीनों की ¨जदगी को रोशन कर गई हैं। जिसमें उनके मरणोपरांत नेत्रदान से दो नेत्रहीनों की ¨जदगी में भी उजाला हो सकेगा। मंगलवार को उनका निधन होने के बाद उनके पुत्र रूपचंद बोथरा व प्रकाश बोथरा की सहमति से उनका नेत्रदान किया गया है।

इस नेत्रदान कार्यक्रम में मारवाड़ी महिला समिति, राउरकेला (ओडिशा प्रदेश) की महिला मंच नेत्रदान प्रमुख कल्पना बगडिया समेत इंदु अग्रवाल व विजय लक्ष्मी अग्रवाल का सराहनीय योगदान रहा। उनके सहयोग से राउरकेला नेत्र विभाग की टीम द्वारा उनका नेत्रदान संभव हो सका है। इस नेक कार्य के लिए बोथरा परिवार को नेत्रदान टीम ने धन्यवाद दिया है तथा दिवंगत रेशमी देवी की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करने समेत उनके शोकसंतप्त परिवार के प्रति संवेदना प्रकट की है। वहीं नेत्रदान को महादान बताकर अन्य लोगों से भी नेत्रदान के लिए आगे आने का आह्वान किया गया है।

Posted By: Jagran