जागरण संवाददाता, राउरकेला : आबकारी विभाग के विशेष कार्यबल के द्वारा सीमावर्ती बिसरा, बीरमित्रपुर, नुआगांव एवं लाठीकटा ब्लाक के विभिन्न गांवों में छापेमारी कर 12 सौ लीटर देसी शराब के साथ 45 हजार किलो महुआ जब्त किया। विभाग की ओर से शराब बनाने की सामग्री भी जब्त की गई है।

आबकारी विभाग की ओर से बीरमित्रपुर व बिसरा थाना क्षेत्र के कारीछपल, लांकेइ, टांकटोली समेत अन्य क्षेत्रों में छापेमारी की गई। शराब भटठी से 12 सौ लीटर शराब तथा शराब बनाने के लिए रखा गया करीब 45 हजार किलो महुआ जब्त किया गया तथा उसे नष्ट किया गया। इसमें लंकेइ गांव से लतिका कुम्हार को गिरफ्तार किया गया जबकि अन्य लोग मौके से फरार हो गए। कटक फ्लाइंग स्क्वायड के साथ जिला आबकारी अधीक्षक सिद्धेश्वर बेहरा, राज्य फ्लाइंग स्क्वायड के सुशांत पाढ़ी, राउरकेला जिला आबकारी अधीक्षक झसकेतन बरीहा, संबलपुर फ्लाइंग स्क्वायड के स्मृतिकांत राउत की अगुवाई में विभागीय टीम ने 22 जुलाई को अंकुरपाली, कारीछापल व देवगांव क्षेत्र में छापेमारी की। यहां से 800 लीटर शराब तथा शराब के लिए भिंगोया गया 390 क्विंटल महुआ जब्त किया गया। मोनको, रामजोड़ी, आमझरन गांव में छापेमारी में 455 क्विंटल महुआ जब्त किया गया। इसकी कीमत 30 लाख रुपये से अधिक बताई गई है। ओडिशा-झारखंड सीमा पर लंबे समय से शराब बनाने का अवैध कारोबार चल रहा था। यह शराब ग्रामीण क्षेत्रों के साथ राउरकेला व आसपास के क्षेत्र की बस्तियों में आपूर्ति की जाती थी। विभाग की ओर से लगातार छापेमारी जारी रखने की बात कही गई है। राउरकेला स्टेशन से तीन बोरा गुटखा जब्त : राउरकेला रेलवे स्टेशन से रेल पुलिस के द्वारा तीन बोरा गुटखा जब्त किया गया है। इसकी कीमत एक लाख रुपये से अधिक बताई गई है। गुटखा कौन लेकर आया था एवं कहां ले जाया जा रहा था, यह स्पष्ट नहीं हो पाया है। इस संबंध में मामला दर्ज कर पुलिस द्वारा छानबीन की जा रही है।

रेलवे स्टेशन में खुले में तीन बोरा पड़े होने पर रेल पुलिस की ओर से इसकी जांच की गई। इसमें विभिन्न ब्रांड का गुटखा भरा हुआ था। रेल पुलिस के द्वारा बोरा को जब्त कर लिया गया। अनुमान लगाया जा रहा है कि अवैध तरीके से गुटखा का कारोबार करने वालों के द्वारा यहां बोरा भरकर रखा गया था। पकड़े जाने के डर से बोरा रखकर पुलिस पर नजर रख रहा था एवं जब्त होने के बाद फरार हो गया।

Edited By: Jagran