जागरण संवाददाता, राउरकेला : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्वी भारत के विकास के लिए रोडमैप तैयार किया है जिसका केंद्र ओडिशा है। ओडिशा वासियों को सम्मान, आपदा से निपटने के लिए उठाए गए कदम उल्लेखनीय है। दूसरी बार प्रधानमंत्री का पदभार संभालने के एक साल पूरे होने पर पानपोष जिला सांगठनिक इकाई की ओर से आयोजित कार्यक्रम में प्रदेश सचिव धीरेन सेनापति ने यह बात कही।

धीरेन सेनापति ने कहा कि जिले के विकास में सांसद जुएल ओराम के साथ बीरमित्रपुर के विधायक शंकर ओराम, सुंदरगढ़ सदर विधायक कुसुम टेटे, तलसरा विधायक भवानी शंकर भोइ का योगदान भी अहम है। उन्होनें केंद्र सरकार से ओडिशा को मिले पैकेज पर प्रकाश डालते हुए कहा कि फणी चक्रवात से निपटने के लिए 4679 करोड़ तथा एम्फन निपटने के लिए 500 करोड़ रुपये मिले। रेल बजट में भी ओडिशा को 2020-21 में 5296 करोड़ रुपये मिले हैं। लॉकडाउन के दौरान ओडिशा के श्रमिकों की घर वापसी के लिए 178 श्रमिक स्पेशल ट्रेन मुहैया कराए गए। केंद्र की मदद से कोरोना संक्रमण काल में राशन कार्ड पर प्रत्येक व्यक्ति को तीन महीने का 15 किलो चावल तथा प्रति कार्ड पर तीन महीने का तीन किलो अरहर दाल मुहैया कराया गया। इसके अलावा विधवा दिव्यांग एव वृद्धों को एक हजार रुपये आर्थिक सहायता मुहैया कराई गई। सुंदरगढ़ जिले में एनटीपीसी पावर प्लांट, मेडिकल कालेज, ब्राहमणी पुल, बीरमित्रपुर से बारकोट तक फोरलेन सड़क निर्माण, राउरकेला स्मार्ट सिटी को तीन सौ करोड़ का अनुदान, बिरसा मैदान में स्टेडियम का निर्माण समेत उपलब्धियों पर उन्होंने प्रकाश डाला। इसमें जिला अध्यक्ष लतिका पटनायक, पूर्व नगरपाल निहार राय, राज्य कार्यकारिणी सदस्य जगबंधु बेहरा, प्रमिला दास, गंगाधर दास समेत अन्य लोग शामिल थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस