जागरण संवाददाता, राउरकेला : कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बावजूद सुंदरगढ़ जिले में कृषि पर इसका असर नहीं पड़ा है। खरीफ फसल के लिए समय पर बीज मिलने के साथ ही किसान बुआई एवं चारा तैयार करने के काम जुट गए हैं। कृषि विभाग की ओर से इस साल जिले में 3.13 लाख हेक्टेयर पर खरीफ खेती का लक्ष्य रखा गया है जिसमें धान 2.09 लाख हेक्टेयर तथा गैर धान फसल 1.04 लाख हेक्टेयर पर उगाई जाएगी। इसमें 1,28,394 हेक्टेयर जमीन असिंचित है। वहीं 80,606 हेक्टेयर जमीन सिंचित क्षेत्र में आती है।

इस वर्ष 8,200 हेक्टेयर में मक्का तथा 16,100 हेक्टेयर जमीन पर बाजरा, मडुआ व अन्य फसल की खेती की जाएगी। 36,900 हेक्टेयर में दलहन, 22,945 पर तिलहन, 980 रेसेदार फसल उगाने का लक्ष्य है। 23,275 हेक्टेयर जमीन पर सब्जी, 3,900 हेक्टेयर पर मसाला की खेती होगी। इस वर्ष कृषि विभाग की ओर से सहभागी, स्वर्णश्रेया, पूजा, प्रतीक्षा, कालाचंपा, एमटीयू किस्म के धान बीज किसानों को मुहैया कराये गए हैं। लैंपस के जरिए 11,420 क्विंटल एवं डीलर के जरिए 7,198 क्विंटल धान बीज किसानों को उपलब्ध कराया गया है। इसमें सहभागी 1121 क्विंटल, स्वर्णश्रेया 769, एमटीयू-1001 किस्म 4581, बीणा 696, एमटीयू-1075 किस्म के 1948, एमटीयू-7029 किस्म के 1116, प्रतीक्षा 2803, पूजा 1657, सीओ-51 किस्म का 143, सीआर-1009 किस्म के 135 क्विंटल तथा कालाचंपा 230 क्विंटल धान बीज शामिल है। धान बीज बिक्री (क्विटल में)

ब्लाक लैंपस डीलर

बड़गांव 940 30

बालीशंकरा 790 1709

बिसरा 550 ---

बणई 318 ---

गुरुंडिया 330 ---

हेमगिर 425 577

कोइड़ा 265 ---

कुआरमुंडा 700 ---

कुतरा 1190 145

लहुणीपाड़ा 168 30

लाठीकटा 400 ---

लेफ्रीपाड़ा 320 1482

नुआगांव 460 60

राजगांगपुर 697 100

सुंदरगढ़ सदर 941 532

सबडेगा 1875 32

टांगरपाली 1050 2503

Edited By: Jagran