मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, राउरकेला : विकास से लेकर बस्तीवासियों के पुनर्वास तक बीजद ने केंद्र सरकार, रेलवे तथा सांसद व केंद्रीय मंत्री जुएल ओराम पर निशाना साधा। साथ ही चेतावनी दी कि विकास के मामले में समझौता नहीं होगा। जरूरत पड़ी तो आंदोलन करेंगे। सोमवार को पंथ निवास में बीजद नेता तथा राउरकेला विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष शारदा प्रसाद नायक ने उक्त बातें कही। उनके साथ आनंद महंती व सुधीर सुंदरराय ने विकास व बस्तीवासियों के पुनर्वास जैसे मुद्दों पर मीडिया से बातचीत की।

शारदा ने कहा कि राउरकेला शुरू से ही केंद्र व रेलवे की उपेक्षा का शिकार रहा है। इसमें केंद्रीय मंत्री तथा सांसद जुएल ओराम का नाम भी शामिल है। वे न तो विकास में शहरवासियों के साथ हैं और न ही रेलवे की थर्ड लाइन से विस्थापित होने वालों का दर्द समझ पाए हैं। रेलवे ने बंडामुंडा-झारसुगुड़ा थर्ड लाइन की दिशा भी राउरकेला में बाएं से दाएं मोड़ दिया है ताकि उनके चहेते लोगों को बचाया जा सके। आश्चर्य है कि कई प्रभावशाली लोग रेलवे की कई एकड़ जमीन पर कब्जा कर अपना कारोबार चला रहे हैं। उनसे जमीन खाली कराने की बजाय गरीबों को विस्थापित किया जा रहा है।

शहर के बस्तीवासियों के पुनर्वास के लिए राजीव आवास योजना में 1556 लाभुकों का चयन हो चुका था, इसके लिए 82 करोड़ रुपये भी स्वीकृत हुए लेकिन केंद्र में सरकार बदलने के कारण योजना ठंडे बस्ते में चली गई। अब प्रधानमंत्री आवास योजना शुरू हुई है लेकिन इसका लाभ लोगों को नहीं मिल पाया है।

उन्होंने थर्ड लाइन के कारण विस्थापित हो रहे लोगों के पुनर्वास की मांग भी रखी। बसंती कॉलोनी से गोपबंधुपाली के बीच फोरलेन सड़क के निर्माण में रेलवे द्वारा अपनी जमीन के बदले 103 करोड़, चारदीवारी व रेलवे क्वार्टर के एवज में सात करोड़ कुल 110 करोड़ रुपये मांग रही है। यह केंद्रीय मंत्री के दबाव में हो रहा है। ब्राह्माणी नदी पर दूसरे सड़क पुल का केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने शिलान्यास किया, 15 दिन में काम शुरू होने की घोषणा की जो अब तक पूरी नहीं हुई। विमलागढ- तालचर रेल पथ में विलंब, वेदव्यास हैं¨गग ब्रिज का काम न होने, थर्ड लाइन के लिए विस्थापितों का पुनर्वास न होने, बंडामुंडा में रेलवे द्वारा अस्पताल बनाने की अनुमति न मिलने, राउरकेला को रेल डिविजन की मांग पूरी न होने, आरएसपी के लाइसेंसी क्वार्टरों का किराया मनमाने तरीके से बढ़ाने, बंडामुंडा में रेल डिब्बा कारखाना समेत अन्य महत्वपूर्ण विकास परियोजनाओं के पूरी न होने के पीछे केंद्र सरकार, रेलवे तथा स्थानीय सांसद व केंद्रीय मंत्री की उपेक्षा को जिम्मेदार ठहराया गया। मौके पर बीजद के अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष जस¨वदर ¨सह गोल्डी, जार्ज आनंद, श्रीचरण सामल, मो. खालिद समेत अन्य नेता मंचासीन थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप