जागरण संवाददाता, राउरकेला:

विश्व में गरीबी, भूख और निरक्षरता दूर करने का लक्ष्य लेकर प्रत्येक वर्ष 17 मई को विश्व भर में इंटरनेशनल आर्ट ऑफ गि¨वग डे मनाया जाता है। इसका उद्देश्य वंचित लोगों की मदद करना तथा उनके जीवन में खुशी व शांति लाना है। इसकी शुरुआत किस व किट संस्था के संस्थापक, शिक्षाविद् एवं दार्शनिक अच्युत सामंत ने वर्ष 2013 में शुरू की थी। तभी से प्रत्येक वर्ष 17 मई को यह दिवस मनाया जाता है।

इस दिवस के उपलक्ष्य में गुरुवार को शहर तथा आसपास के इलाकों में रहने वाले वंचित लोगों के बीच भोजन व अल्पाहार का वितरण किया गया। इसके तहत सेक्टर-16, बासंती कॉलोनी, छेंड कॉलोनी, टिस्को कॉलोनी, रेलवे कॉलोनी, सेक्टर-2, जगदा, नयाबाजार बस्ती, नंदपाड़ा सेक्टर-21, देवगांव, फर्टिलाइजर, कुआरमुंडा, राजगांगपुर, नुआगांव ब्लाक, सेक्टर-3 बलांगीर बस्ती, शांति नगर, हिल टाप बस्ती सेक्टर-20 में रहने वाले वंचित लोगों समेत कुष्ठ रोगियों व अनाथ बच्चों के बीच भोजन व अल्पाहार प्रदान किया गया।

बासंती कॉलोनी के पास मालगोदाम स्थित सर्वभौतिक आश्रम में भी अनाथ बच्चों को इस दिवस के उपलक्ष्य में भोजन व अल्पाहार का वितरण किया गया। इस कार्यक्रम जनता की भागीदारी, जनता की साझेदारी के साथ किया गया। जिससे इस कार्यक्रम में विभिन्न संगठनों से जुड़े व्यक्तियों के अलावा आम नागरिकों का भी सहयोग रहा।

Posted By: Jagran