जागरण संवाददाता, राउरकेला : बणई अनुमंडल के खुटगांव कन्या आश्रम में डालमा भात खाकर 15 छात्राएं बीमार सभी 15 छात्राओं को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। सोमवार को इनमें से 13 छात्राओं ने मैट्रिक की परीक्षा दी। इस बीच स्थिति की गंभीरता को देखते हुए जिला चिकित्सा विभाग तथा कल्याण विभाग की टीम भी स्कूल एवं छात्रावास पहुंचकर मामले की छानबीन की।

कल्याण विभाग अधीनस्थ खुटगांव कन्या आश्रम स्कूल में चार सौ से अधिक छात्राएं रहती हैं। इनमें से 50 छात्राएं इस वर्ष मैट्रिक की परीक्षा दे रही हैं। इनका परीक्षा केंद्र स्कूल से करीब 25 किलोमीटर दूर रुगुड़ा हाईस्कूल में है। शुक्रवार की शाम से 15 छात्राओं की तबीयत बिगड़ने स्कूल प्रबंधन की ओर से उनका इलाज कराया गया था। रविवार को फिर 15 छात्राओं की तबीयत खराब होने पर शीला पात्र, लक्ष्मी किसान, अनीता ओराम, मंजूलता ओराम, सुभद्रा मुंडा, प्रियंका कुंवर, निकीता टोप्पो, चांदनी पात्र, पार्वती भूमिज, लोपमुद्रा भूमिज, तिलमुणी मुंडा को बणई अस्पताल भेजा गया जबकि दो छात्राओं को लहुणीपाड़ा अस्पताल से ही चिकित्सा के बाद छुट्टी दे दी गई। शाम से ही हालत में सुधार आने के कारण सोमवार की सुबह बाकी को अस्पताल से छुट्टी दी गई। इसके बाद सभी छात्राएं परीक्षा देकर छात्रावास लौट आईं। वहीं, छात्राओं की तबीयत खराब होने की जांच के लिए सोमवार को सुंदरगढ़ से डॉक्टरों की एक टीम ने स्कूल व आश्रम जाकर मामले की छानबीन की। जिला कल्याण अधिकारी सुनील कुमार तांडी भी स्कूल पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया।

बदहजमी व गैस की थी शिकायत

कन्या आश्रम में चार सौ छात्राएं रहती हैं इनमें से केवल 15 छात्राओं की तबीयत बिगड़ी थी। इनमें मैट्रिक परीक्षा देने वाली 13 छात्राएं शामिल हैं। तनाव व सुबह स्नान के कारण बदहजमी व गैस की शिकायत थी। अब सभी स्वस्थ हैं एवं परीक्षा दे रही हैं।

- सुनील कुमार तांडी, जिला कल्याण अधिकारी, सुंदरगढ़।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस