पुरी, जेएनएन। महाप्रभु श्री जगन्नाथ जी के रत्नभंडार (भीतर) की चाबी गायब होने की घटना पर पिछले दिनों पूरे राज्य में चर्चा का बाजार सरगर्म था। राजनेताओं से लेकर जगन्नाथ भक्तों तक इस पर असंतोष प्रकट किया। मामले की गंभीरता को देखते हुए सरकार ने जस्टिस रघुवीर दास जांच आयोग का गठन किया। इस मामले के दूसरे चरण की जांच के लिए जस्टिस रघुवीर दास सोमवार को पुरी पहुंचे।

पुरी सर्किट हाउस में दिन तमाम जांच प्रक्रिया को जारी रखने के साथ जस्टिस दास ने घटना को लेकर कुछ लोगों से पूछताछ भी की। श्रीमंदिर के मुख्य प्रशासक, जिलाधीश, अतिरिक्त जिलाधीश एवं घटना के साथ संपृक्त व्यक्ति विशेष के साथ भी जस्टिस दास के चर्चा करने का कार्यक्रम है। इससे पहले जस्टिस दास सोमवार की सुबह श्रीमंदिर पहुंचे और यहां पर महाप्रभु श्री जगन्नाथ जी का दर्शन किया। 

उल्लेखनीय है कि श्रीमंदिर के रत्न भंडार की चाबी गुम होने को लेकर जगन्नाथ सेना ने ही मुखर आवाज उठाई थी। श्रीमंदिर के रत्न भंडार की चाबी गायब होने का मामला सामने आने पर विभिन्न राजनीतिक दलों ने राज्य सरकार को सीधे जिम्मेदार ठहराया है। सरकार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए न्यायिक जांच का निर्देश दिया है।   हालांकि बीच में डुप्लीकेट चाबी मिलने का भी मामला सुर्खियों में रहा।  

Posted By: Babita