पुरी, जागरण संवाददाता :साक्षीगोपाल का प्रसिद्ध अवंला नवमी यात्रा सम्पन्न हो गई है। कार्तिक महीने के शुक्ल नवमी तिथि में सम्पन्न इस यात्रा में 2 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं की भीड़ जमा थी। सभी भक्तों ने माता राधा जी के पैर का दर्शन किए। साल में एक बार इसी दिन श्रीराधा देवी के पैर का दर्शन मिलता है।

इस अवसर पर हजारों व्रतचारिणी साक्षीगोपीनाथ और राधाजी का दर्शन करने के साथ अवंला पेड़ का पूजन किए। साक्षीगोपाल मंदिर में सभी नीति श्रृंखलित रूप से संपन्न की गई। बुधवार को रात के 2 बजे के बाद मंदिर का द्वार खुला था। मंगल आरती, अवकाश, वेश, बल्लभ, सकाल धूप सम्पन्न होने के बाद गुरुवार पूर्वाह्नं में सर्वसाधारण दर्शन शुरू हुआ। साक्षीगोपानीथ को नटवर और राधा जी को ओडियानी वेश में सजाया गया था। श्रृंखलित दर्शन के लिए मंदिर के सामने बैरीकेड बनाया गया था। सिंहद्वार देकर दर्शनार्थी मंदिर में प्रवेश कर रहे थे। यात्रियों को सूचना देने के लिए जिला सूचना और जनसंपर्क विभाग की तरफ से सूचना केन्द्र खोला गया था। सत्यवादी हाईस्कूल, सत्यसाई सेवा समिति आदि स्वेच्छासेवी संगठन के स्वेच्छासेवियों ने यात्रियों के विभिन्न सेवा कार्य में नियोजित थे। स्काउट गाइड के द्वारा सेवा कार्य किया गया था। इस मंदिर को गुप्त वृंदावन के नाम पर जाना जाता है। अवंला नवमी के अवसर पर पुरी श्रीमंदिर में भी लाखों भक्त पहुंच राधा जी के पाद का दर्शन किए। रत्न सिंहासन को श्रीजीउओं का दर्शन किए। सिद्ध गोकुल मठ, राधाकान्त मठ और जमेश्वर मंदिर में व्रतचारिणियों ने अवंला पेड़ का पूजन किए।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर