पुरी, जागरण संवाददाता :

महिलाओं की मर्यादा और सुरक्षा के लिए गठित विभिन्न कानूनों का कई क्षेत्रों में दुरुपयोग भी होता रहा है। ऐसी ही एक घटना श्रीक्षेत्र में भी सामने आई है। निजी स्वार्थ और गैरकानूनी कार्य में बाधक बनने पर बीजद के वरिष्ठ सदस्य तथा पेण्ठकटा मत्स्यजीवी बस्ती के नेता के.प्रसाद राव(65) के खिलाफ सुभद्रा नामक 45 साल की एक विधवा ने बलात्कार का आरोप लगाया है। प्रारंभिक जांच में महिला द्वारा लगाया गया अभियोग गलत सिद्ध हुआ है। महिला चका सुभद्रा ने विभागीय अधिकारियों से लेकर पुलिस महानिदेशक तक आरोप पत्र भेजने के सिवा एसडीजेएम अदालत में भी मामला दायर किया गया था। अदालत के निर्देश पर पुलिस ने मामला दायर किया था। आरोपी व महिला की डाक्टरी जांच की गई जिससे बलात्कार प्रमाणित नहीं हुआ है। इस बीच पुलिस अनुसंधान से मालूम हुआ है कि जमीन विवाद के कारण सुभद्रा ने बीजद नेता को फंसाने के लिए संगीन आरोप लगाया था।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर