पुरी, जागरण संवाददाता : समाज सुधार और सेवा का संकल्प लेते हुए श्रीक्षेत्र के विभिन्न सामाजिक, सांस्कृतिक व सारस्वत अनुष्ठान को मिलाकर बसुधारा नामक एक महासंगठन का गठन किया गया है। नायक बीच रिसर्ट के सम्मेलन कक्ष में आयोजित एक समावेश में बसुधारा का उद्घाटन पर्व सम्पन्न हुआ है। इस अवसर पर विशिष्ट श्रमिक नेता और सु-साहित्यिक कैलाश राय को विभिन्न अनुष्ठान की तरफ से नागरिक संब‌र्द्धना प्रदान किया गया। समाजसेविका रमा देवी मुख्य अतिथि के रूप में योगदान की थी। उत्सव में अध्यक्षता किए थे अडिट महासंघ के राष्ट्रीय महासचिव गौरांग चरण परिड़ा। बसुधारा के अध्यक्ष समाजसेवी गिरीश चन्द्र नायक अनुष्ठान के आभिमुख्य के बारे में सूचना दिए थे। आवाहक महेन्द्र विशोई ने स्वागत भाषण के साथ बसुधारा के लक्ष्य और उद्देश्य के बारे में जानकारी दिए। ओडिशा साहित्य एकेडमी के सदस्य वीरेन्द्र महान्ति, उपभोक्ता विवाद समाधान मंच के अध्यक्ष नव किशोर पटनायक, डा.कैलाश चन्द्र टिकायत राय, रेलवे श्रमिक नेता विभूदत्त लेंका, डा.अद्वेत चरण धल, शिक्षाविद प्राणकृष्ण महापात्र, अध्यापिका विजय लक्ष्मी पटनायक, श्रमिक नेता रघुनाथ साहू और समाजसेवी गोविन्द चन्द्र महान्ति प्रमुख उद्बोधन देते हुए बसुधारा के प्रति शुभेच्छा और समर्थन के साथ सम्मानित व्यक्तित्व कैलाश राय को अभिनंदन ज्ञापन किए हैं। श्रमिक नेता और साहित्यिक कैलाश राय को उपभोक्ता तथा नागरिक सम्मान के स्वरूप बसुधारा के प्रथम सार्थक सेवा सम्मान प्रदान किया गया। शहर के 20 अनुष्ठान के तरफ से श्री राय को सम्मानित किया गया। सम्मान पर्व का परिचालन श्याम प्रकाश सेनापति ने किया। इस अवसर पर श्री राय ने कहा कि मानवीय मूल्यबोध मनोभाव व व्यक्तिवाद सामाजिक जीवन में नैतिकता का विलोप करता है। राष्ट्रीय संपदा लूट होने के साथ वस्तुवादी लालच बढ़ रही है। इस पृष्ठभूमि में सामाजिक सुधार की आवश्यकता है। अन्त में रोटरियन देवी प्रसन्न नंद ने धन्यवाद ज्ञापन किया। लक्ष्मीधर माझी, बी.जगदीश पटनायक, विजय चरण महान्ति ने उत्सव परिचालन किया।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर