पुरी : अक्षय तृतीया के अवसर पर पूरे श्रीक्षेत्र में आनंद के साथ घड़ी पथुली पूजा पारंपरिक विधि विधान के अनुसार की गई। अपने परिवार की मंगलकामना करते हुए गृहणियों ने मिट्टी से निर्मित घड़ी और मिट्टी के बर्तन में भोग सामग्री की पूजा किए हैं। पूजा के बाद भोग को बच्चों में बांटा गया। अक्षय तृतीया के अवसर पर श्रीक्षेत्र के साही बस्ती में यह पूजा सम्पन्न हुई है। गौरतलब है कि अक्षय तृतीया के लिए कुम्भकारों ने स्वतंत्र रूप से मिट्टी के बर्तन प्रस्तुत किए हैं और इसको केवल इसी समय बाजार में बेचा जाता है। परिवार के कल्याण तथा अपने बच्चों की लम्बी आयु की कामना करते हुए यह पूजा की जाती है। इस पूजा के उत्कलीय संस्कृति में एक स्थान है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर